1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. स्विस बैंकों ने भारत से कहा, ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज के लिये जरूरी है गोपनीयता

स्विस बैंकों ने भारत से कहा, ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज के लिये जरूरी है गोपनीयता

स्विट्जरलैंड के बैंकों ने भारत से कहा है कि उसे नई ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज व्यवस्था के तहत अपने सूचना की गोपनीयता कड़ाई से सुनिश्चिचत करनी होगी।

Sachin Chaturvedi | Jun 18, 2017 | 6:39 PM
स्विस बैंकों ने भारत से कहा, ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज के लिये जरूरी है गोपनीयता

नयी दिल्ली। स्विट्जरलैंड के बैंकों ने भारत से कहा है कि उसे नई ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्‍सचेंज व्यवस्था के तहत अपने नागरिकों के स्विस बैंक खातों के बारे में प्राप्त सूचना की गोपनीयता कड़ाई से सुनिश्चिचत करनी होगी। ऐसा नहीं होने पर स्विट्जरलैंड आंकड़ा साझा करना बंद कर देगा। शुक्रवार को स्विस फेडरल काउंसिल ने भारत तथा 40 अन्य क्षेत्रों के साथ एईओआई को मंजूरी दे दी ताकि संदिग्ध कालाधन के ब्योरे को तत्काल साझा किया जा सके। यह भी पढ़ें: भारत ने कालेधन के खिलाफ अभियान किया तेज, स्विट्जरलैंड से 10 लोगों का मांगा ब्योरा

स्विटजरलैंड ने स्‍पष्‍ट किया है कि स्विस सरकार तथा उसके बैंक भारत की तरफ से विभिन्न देशों से प्राप्त ब्योरा के संदर्भ में आंकड़ा संरक्षण के लिये किये गये उपायों पर पैनी नजर रखेंगे। भारत के साथ समझौता 2018 में लागू होगा और आंकड़ो का पहला सेट 2019 में साझा किया जाएगा। स्विट्जरलैंड के बैंकों की एसोसिएशनों के अधिकारियों ने कहा कि इस क्रियान्‍वयन योजना से उन्हें अन्य वित्‍तीय केंद्रों द्वारा इसे लागू करने तथा भारत एवं सूचना प्राप्त करने वाले अन्य क्षेत्रों में गोपनीयता तथा आंकड़ा संरक्षण के पालन के बारे में अध्ययन करने का बेहतर समय मिलेगा। यह भी पढ़ें: कालेधन की सूचना देने के लिए स्विट्जरलैंड ने रखी शर्त, कहा – गोपनीयता भंग होने पर नहीं देगा जानकारी

अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि यह केवल भारत के लिये नहीं बल्कि उन सभी देशों के लिये है जिनके साथ स्विटजरलैंड स्वत: मार्ग के जरिये बैंक सूचना साझा करेगा। स्विटजरलैंड सरकार के अधिकारियों तथा स्विस बैंकों के एक प्रमुख संघ ने कहा कि भारत तथा अन्य क्षेत्रों को आंकड़ा संरक्षण तथा समान अवसर सुनिश्चत करने की जरूरत है जिनके साथ एईओआई व्यवस्था क्रियान्‍वित की जाएगी।

Write a comment