1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. स्नैपडील-फ्लिपकार्ट सौदे से कर्मचारियों की होगी चांदी, फाउंडर देंगे 2 हजार लोगों को 193 करोड़ रुपए

स्नैपडील-फ्लिपकार्ट सौदे से कर्मचारियों की होगी चांदी, फाउंडर देंगे 2 हजार लोगों को 193 करोड़ रुपए

स्नैपडील की उसकी बड़ी प्रतिद्वंद्वी फ्लिपकार्ट के साथ बिक्री का सौदा पूरा हो जाता है तो वह अपने कर्मचारियों को 193 करोड़ रुपए की पेशकश करेगी।

Dharmender Chaudhary | May 14, 2017 | 6:10 PM
स्नैपडील-फ्लिपकार्ट सौदे से कर्मचारियों की होगी चांदी, फाउंडर देंगे 2 हजार लोगों को 193 करोड़ रुपए

नई दिल्ली। किसी कंपनी की बिक्री उसके कर्मचारियों को लिए फायदे का सौदा नहीं होती। लेकिन स्नैपडील के मामले में ऐसा नहीं है। यदि घरेलू ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील की उसकी बड़ी प्रतिद्वंद्वी फ्लिपकार्ट के साथ बिक्री का सौदा पूरा हो जाता है तो वह अपने कर्मचारियों को 193 करोड़ रुपए की पेशकश करेगी। यह भी पढ़ें: हवा से पानी निकालने वाला उपकरण जल्द बनेगा हकीकत, पीने की पानी की नहीं होगी कमी

सूत्रों ने कहा कि यदि यह सौदा अंजाम तक पहुंचता है तो कंपनी के संस्थापक खुद को मिलने वाली राशि में से आधी यानी तीन करोड़ डॉलर प्रस्तावित योजना के लिए देंगे, जिसके दायरे में स्नैपडील के सभी मौजूदा कर्मचारी आएंगे। स्नैपडील के कर्मचारियों की संख्या 1,500 से 2,000 है। कंपनी के संस्थापकों ने बोर्ड से कहा है कि वे उनको मिलने वाले निपटान भुगतान का आधा यानी 192 करोड़ रुपए स्नैपडील की टीम को दें। वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि किसी भी तरीके से उनकी टीम अलगथलग न पड़े।

पिछले 12 माह के दौरान कंपनी छोड़ने वाले कुछ पूर्व वरिष्ठ कार्यकारियों को भी इस प्रक्रिया से लाभ मिलेगा। इस बारे में स्नैपडील को भेजे गए ईमेल का जवाब नहीं मिला। इसके पीछे मंशा इसॉप के लिए भी मुआवजा देना है जो वरिष्ठ कार्यकारियों को जारी किया गया है। एक सूत्र ने कहा कि उनके शेयर और विकल्प का मूल्य नीचे आया है और एक बार करार पर दस्तखत के बाद इसका कोई मूल्य नहीं रह जाएगा।

दिलचस्प तथ्य यह है कि सौदे से संबंधित भुगतान का लाभ उन कर्मचारियों को भी मिलेगा, जिनके पास इसॉप नहीं है। यह उन कर्मचारियों के लिए फ्लिपकार्ट के साथ प्रस्तावित सौदा पूरा होने तक रके रहने का पुरस्कार होगा। यदि यह सौदा पूरा हो जाता है तो स्नैपडील के संस्थापकों को कुल मिलाकर 6 करोड़ डॉलर मिलेंगे, जिसमें से आधी राशि कर्मचारियों को दी जाएगी। जापानी समूह और स्नैपडील की सबसे बड़ी निवेशक सॉफ्टबैंक ने इस संकटग्रस्त ऑनलाइन मार्केटप्लेस को उसकी बड़ी प्रतिद्वंद्वी फ्लिपार्ट को बेचने की प्रक्रिया शुरू की है। यह भी पढ़ें: 500, 2000 रुपए के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से RBI प्रेस का इनकार, कहा – देश की संप्रभुता होगी प्रभावित

Write a comment