1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. 500, 2000 रुपए के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से RBI प्रेस का इनकार, कहा - देश की संप्रभुता होगी प्रभावित

500, 2000 रुपए के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से RBI प्रेस का इनकार, कहा - देश की संप्रभुता होगी प्रभावित

RBI के स्वामित्व वाली नोट प्रिंटिंग कंपनी ने कहा है कि 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई के लिए कागज आयात की जानकारी देने से भारत की संप्रभुता प्रभावित होगी

Manish Mishra | May 14, 2017 | 5:05 PM
500, 2000 रुपए के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से RBI प्रेस का इनकार, कहा - देश की संप्रभुता होगी प्रभावित

नई दिल्ली। RBI के स्वामित्व वाली नोट प्रिंटिंग कंपनी ने कहा है कि 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई के लिए कागज के आयात की जानकारी देने से भारत की संप्रभुता प्रभावित होगी तथा एक तरह के अपराध को उकसावा मिल सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड (BRBNMPL) ने एक आरटीआई आवेदन के जवाब में ऊंचे मूल्य के नोटों की छपाई के लिए कागजों के आयात से संबंधित सूचनाएं देने से इनकार कर दिया। सूचना देने से इनकार किया जाना इस मायने में अहम है कि मीडिया में खबर आई थी कि नए नोटों की छपाई के लिए इस्तेमाल में लाए गये कागज काली सूची में डाली गयी कंपनी (ब्‍लैक लिस्‍टेड कंपनियों) से आयात किए गए थे।

यह भी पढ़ें : IT सेक्टर में अगले दो साल तक जारी रहेगी कर्मचारियों की छंटनी, डिजिटलीकरण और ऑटोमेशन का असर

BRBNMPL ने एक आरटीआई आवेदन के जवाब में कहा,

सूचना नहीं दी जा सकती है क्योंकि यह सूचना के अधिकार कानून की धारा 8 (1)(ए) के दायरे में आती है।

यह धारा किसी भी ऐसी सूचना का खुलासा किए जाने पर पाबंदी लगाती है जो भारत की संप्रभुता एवं एकता को पूर्वग्रह के आधार पर प्रभावित करती हो, जो किसी अन्य देश के संदर्भ में भारत की सुरक्षा, रणनीतिक, वैज्ञानिक या आर्थिक हितों पर असर डालती है या लोगों को अपराध के लिए प्रेरित करती है। RBI से उस कंपनी या आपूर्तिकर्ता का नाम बताने को कहा था जहां से मुद्रा नोट का कागज आयात किया गया। इसी के साथ उससे आयात की मात्रा, सहमतिपत्र की प्रति भी मांगी गई थी।

यह भी पढ़ें : BSE पर लिस्‍टेड 780 कपनियां ग्रेडेड निगरानी के घेरे में, शेयरों में असामान्‍य उतार-चढ़ाव का है मामला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर अंकुश लगाने की कोशिश के तहत पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से हटाने की घोषणा की थी। तत्पश्चात 500 और 2000 रुपए के नए नोट नए डिजायन एवं अभेद्य सुरक्षा उपायों के साथ जारी किए गए।

Write a comment