1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. सहयोगी बैंकों के विलय से SBI में बढ़े कर्मचारी, चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य ने कहा-इस साल कम होंगी भर्तियां

सहयोगी बैंकों के विलय से SBI में बढ़े कर्मचारी, चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य ने कहा-इस साल कम होंगी भर्तियां

सहयोगी बैंकों के विलय के बाद देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI ने नई भर्तियों की संख्या कम करने का फैसला लिया है।

Ankit Tyagi | May 20, 2017 | 2:06 PM
सहयोगी बैंकों के विलय से SBI में बढ़े कर्मचारी, चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य ने कहा-इस साल कम होंगी भर्तियां

नई दिल्ली। बैंकिंग सेक्टर में नौकरी तलाश रहे लोगों के लिए यह खबर चिंता बढ़ा सकती है, क्योंकि देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने नई भर्तियों की संख्या कम करने का फैसला किया है। दरअसल जनवरी-मार्च तिमाही नतीजों के बाद एसबीआई की चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य ने कहा, मैं नहीं मानती कि हम बहुत ज्यादा रिक्रूटमेंट करने जा रहे हैं। आपको बता दें कि इसी साल की शुरुआत में एसबीआई ने प्रोबेशन पर 2,313 पीओ के पद निकाले थे। बैंक ने अभी भी अपनी वेबसाइट पर जूनियर असोसिएट्स और पीओ की भर्ती का विज्ञापन दिया हुआ है।यह भी पढ़े:SBI का Q4 मुनाफा डबल से ज्‍यादा बढ़ा, जनवरी-मार्च तिमाही में हुआ 2,815 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ

सहयोगी बैंकों के विलय से SBI में बढ़ें कर्मचारी

सहयोगी बैंकों के विलय के बाद देश के सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक एसबीआई ने नई भर्तियों की संख्या कम करने का फैसला लिया है। इसकी वजह यह है कि उसके पास फिलहाल सहयोगी बैंकों से आए एंप्लॉयीज को ही समाहित करने का दबाव है। हाल में भट्टाचार्य ने कहा था कि सहयोगी बैंकों के विलय के चलते हमारे पास पहले ही एंप्लॉयीज का ओवरफ्लो है। यह भी पढ़े: SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, सर्विस के लिए नहीं है लाइन में लगने की जरुरत, शुरू हुई नो क्यू सेवा

नहीं होगी नए क्लर्कों की भर्ती!

मीडिया रिपोट्स् के मुताबिक इस साल SBI में क्लर्कों की नई भर्ती होने की उम्मीद कम ही है। वहीं, अधिकारियों की बात की जाए तो साल के अंत तक कुछ लोगों को हायर किया जा सकता है। अप्रैल, 2016 से मार्च 2017 के दौरान एसबीआई ने 13,097 एंप्लॉयीज की भर्ती की थी, जबकि इस दौरान 11,264 लोग रिटायर हुए है। यह भी पढ़े: SBI ने दिया ग्राहकों को झटका, कैश विड्रॉल से लेकर कटे-फटे नोट बदलवाने पर भी वसूलेगा चार्ज

5 सहयोगी बैंकों का हुआ था SBI में विलय

1 अप्रैल, 2017 को एसबीआई के सहयोगी बैंकों स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर ऐंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर का उसमें विलय हो गया था। इसके अलावा भारतीय महिला बैंक का भी एसबीआई में विलय हुआ है। विलय के बाद असोसिएट्स बैंकों के 70,000 एंप्लॉयीज और भारतीय महिला बैंक की एंप्लॉयीज स्टेट बैंक के कर्मचारी के तौर पर काम कर रहे हैं। इनमें 3,600 लोग वीआरएस के लिए आवेदन कर चुके हैं, यानी करीब 66,400 लोग एसबीआई से जुड़े हैं। यह भी पढ़े: मोबाइल वॉलेट के जरिये ATM से पैसे निकलाने की सुविधा देगा SBI, लगेगा 25 रुपए का शुल्‍क

Write a comment