1. Home
  2. My Profit
  3. Stocks
  4. भारतीय रुपया 3 पैसे की मजबूती के साथ 64.27/$ पर खुला, कमजोर आर्थिक आंकड़ों से डॉलर में आई गिरावट

भारतीय रुपया 3 पैसे की मजबूती के साथ 64.27/$ पर खुला, कमजोर आर्थिक आंकड़ों से डॉलर में आई गिरावट

अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ने के बावजूद डॉलर लगातार गिर रहा है। इसी का फायदा उठाते हुए गुरुवार को भारतीय रुपए की शुरुआत मजबूती के साथ हुई है।

Ankit Tyagi | Jun 15, 2017 | 9:14 AM
भारतीय रुपया 3 पैसे की मजबूती के साथ 64.27/$ पर खुला, कमजोर आर्थिक आंकड़ों से डॉलर में आई गिरावट

नई दिल्ली। अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ने के बावजूद डॉलर लगातार गिर रहा है। इसी का फायदा उठाते हुए गुरुवार को भारतीय रुपए की शुरुआत मजबूती के साथ हुई है। एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 3 पैसा मजबूत होकर 64.27 पर खुला है। बुधवार को डॉलर के मुकाबले रुपए में मामूली बढ़त देखने को मिली थी। डॉलर के मुकाबले रुपया 4 पैसे की बढ़त के साथ 64.30 पर बंद हुआ था। वहीं, इससे पहले सत्र यानी मंगलवार को भी रुपया  12 पैसे की बढ़त के साथ 64.33 पर बंद हुआ था। यह भी पढ़े: अमेरिका में ब्याज दरें 0.25 फीसदी बढ़ी, दुनियाभर के बाजारों के साथ-साथ भारत पर होगा ये असर

रुपए में तेजी जारी

अंतर बैंकिंग विदेशी मुद्रा बाजार में गुरुवार को अमेरिकी डालर के मुकाबले रुपया 4 पैसे की बढ़त के साथ 64.30 पर बंद हुआ था। दरअसल बैंकों की ओर से जारी डॉलर बिकवली और घरेलू शेयर बाजार की तेजी का फायदा रुपए को मिल रहा है।  यह भी पढ़े: निफ्टी 5 साल में छुएगा 30 हजार का स्तर, अब इन शेयरों में हैं कमाई का बड़ा मौका

डॉलर में आई गिरावट

गुरुवार के सत्र में अन्य करेंसियों के मुकाबले अेमेरिकी डॉलर में गिरावट देखने को मिल रही है। दरअसल मंहगाई दर में गिरावट और रिटेल सेल्स के 16 महीने के निचले स्तर पर आने से ट्रेडर्स को इकोनॉमी की तेज रिकवरी को लेकर चिंताएं बढ़ गई है। साथ ही, अमेरिकी राष्ट्रपति फिर से पॉलिटिकल टेंशन में पड़ गए है। यह भी पढ़े: इन कंपनियां का मुनाफा दोगुना होने से शेयर के भाव 300% बढ़े, आपके पास अब भी है मौका

अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ी

अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व (फेड) ने इस साल दूसरी बार फिर से ब्याज दरों में इजाफा कर दिया है। बुधवार को फेडरल रिजर्व ने  ब्याज दरों में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की है। अब अमेरिका में ब्याज दरें बढ़कर 1 से 1.25 फीसदी हो गई है। इस खबर के बाद दुनियाभर के शेयर बाजार और करेंसी बाजार में गिरावट का माहौल देखने को मिल रहा है, क्योंकि दरें बढ़ने के बाद ट्रेडर्स की ओर से रक्षात्मक कदम उठाए जा रहे है।  एक्सपर्ट्स का मानना है कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी की उम्मीद पहले से लगाई जा रही थी, लेकिन अमेरिका में अर्थव्यवस्था को लेकर आ रहे आंकड़े अभी भी कमजोर है। लिहाजा बाजार पर इसका असर देखने को मिलेगा।

Write a comment