1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. Reliance Jio को मिल सकती हैं बड़ी राहत, टेलीकॉम कंपनियां रोजना देंगी ट्राई को कॉल ड्रॉप की रिपोर्ट

Reliance Jio को मिल सकती हैं बड़ी राहत, टेलीकॉम कंपनियां रोजना देंगी ट्राई को कॉल ड्रॉप की रिपोर्ट

Dharmender Chaudhary | Oct 1, 2016 | 1:15 PM
Reliance Jio को मिल सकती हैं बड़ी राहत, टेलीकॉम कंपनियां रोजना देंगी ट्राई को कॉल ड्रॉप की रिपोर्ट
SHOW FULL IMAGE

नई दिल्ली। देश की टेलीकॉम कंपनियों और Reliance Jio के बीच इंटरकनेक्शन को लेकर जारी विवाद के बीच दूरसंचार नियामक ट्राई ने कहा कि उसने प्वाइंट ऑफ इंटरकनेक्शन (पीओआई) पर ट्रैफिक के बारे में कंपनियों से रोजाना रिपोर्ट देने को कहा है।

यह भी पढ़ें: रिलायंस जियो ने लॉन्च किया जियो डोंगल 2, बिना 4जी स्मार्टफोन के भी चाल सकेंगे फ्री इंटरनेट

ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा ने कहा, ‘हमने दूरसंचार कंपनियों से कहा है कि वे पीओआई पर भीड़भाड़ पर दैनिक आधार पर रिपोर्ट दें। इससे पहले हमने 15-19 सितंबर की अवधि के लिए रिपोर्ट मांगी थी. अब हमने 19 सितंबर के बाद रिपोर्ट देने को कहा है।’

  • ट्राई के चेयरमैन ने भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेल्यूलर सहित अन्य दूरसंचार कंपनियों के आला अधिकारियों से मुलाकात की।
  • ये कंपनियां रिलायंस जियो द्वारा शुल्क दर आदेशों के उल्लंघन का आरोप लगा रही हैं।
  • रिलायंस जियो की कॉल डॉप होने संबंधी शिकायतों के बाद ट्राई ने इसी हफ्ते कहा था कि वह कॉल ड्राप को लेकर कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी करेगा।
तस्वीरों में देखें रिलायंस जियो के ऑफर्स

दूरसंचार कंपनियों के साथ बैठक के सवाल पर शर्मा ने कहा, ‘कंपनियों ने आईयूसी का अनुपालन नहीं किए जाने, बाजार बिगाड़ू शुल्क दरों संबंधी अपने पत्र के बारे में मुझसे मुलाकात की।’

यह भी पढ़ें: RCom और Jio का हुआ ‘वर्चुअल मर्जर’, ग्राहकों को मिलेगा सस्‍ते कॉल और इंटरनेट का फायदा

  •  रिलायंस जियो ने 5 सितंबर को 4जी सेवाओं की शुरुआत की।
  • उसकी वायस कॉल हमेशा की नि:शुल्क रहेंगी, जबकि 4जी मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाएं 31 दिसंबर तक मुफ्त हैं।

वोडाफोन इंडिया के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्याधिकारी सुनील सूद ने कहा, ‘ट्राई के चेयरमैन ने हमारी बात सुनी। वह मामले की जांच कर रहे हैं और जल्द ही हमसे संपर्क करेंगे।’ दूरसंचार कंपनियों ने हालांकि रिलायंस जियो को और अधिक नेटवर्क इंटरकनेक्शन उपलब्ध कराने के मामले में प्रगति संबंधी सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।