1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. 5,000 एसी और नॉन-एसी आधुनिक डिब्बे बनाने की तैयारी में रेलवे, आमंत्रित करेगी वित्तीय बोलियां

5,000 एसी और नॉन-एसी आधुनिक डिब्बे बनाने की तैयारी में रेलवे, आमंत्रित करेगी वित्तीय बोलियां

रेलवे आधुनिक सुविधाओं वाले 5,000 एसी और बिना-एसी डिब्बे के विनिर्माण के लिए 20,000 करोड़ रुपए से अधिक की वित्तीय बोलियां आमंत्रित करेगी।

Dharmender Chaudhary | May 2, 2017 | 1:54 PM
5,000 एसी और नॉन-एसी आधुनिक डिब्बे बनाने की तैयारी में रेलवे, आमंत्रित करेगी वित्तीय बोलियां

नई दिल्ली। रेलवे आधुनिक सुविधाओं वाले 5,000 एसी और बिना-एसी डिब्बों के विनिर्माण के लिए 20,000 करोड़ रुपए से अधिक की वित्तीय बोलियां आमंत्रित करेगी। इन डिब्बों का विनिर्माण पश्चिम बंगाल के कंचरापाड़ा रेल कारखाने में किया जाएगा। यह भी पढ़ें: Jio ने लगाया Airtel पर बड़ा आरोप, कहा- 293 और 449 रुपए वाले प्लान में कंपनी ग्राहकों को कर रही है गुमराह

रेलवे ने स्थानीय और मुख्यलाइनों की ट्रेन सेवाओं को बेहतर और तीव्र गति वाला बनाने के लिए इस कारखाने से हर साल 500 इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (ईएमयू) और मेनलाइन इलेक्ट्रेक मल्टीपल यूनिट (एमईएमयू) डिब्बे लेने का आश्वासन दिया है। ऑटोमेटिक दरवाजे, बेहतर हवा प्रणाली, जैवसुविधा युक्त शौचालय, बेहतर आंतरिक सज्जा वाले स्टेनलेस स्टील के इन रेल डिब्बों की रफ्तार मौजदा डिब्बों के मुकाबले तेज होगी।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, हम बंगाल की कंचरापाड़ा कोच फैक्टरी के लिए इसी महीने प्रस्ताव के लिए आग्रह पत्र (आरएफपी) मंगाने के निर्देश जारी करेंगे। अधिकारी ने कहा कि वित्तीय बोलियां इस लिहाज से मंगाई जाएंगी कि जो भी पक्ष बोली लगाएगा वह संगठन की जरूरतों को पूरा करने के योज्ञ हो। ये बोलियां इस तरीके से मंगाई जाएंगी कि इनकी आपस में आसानी से तुलना की जा सके।

रेलवे ने पिछले साल जून में योग्यता संबंधी आग्रह पत्र आमंत्रित किए थे। ये पत्र अगले दस साल के दौरान संयुक्त उद्यम के जरिए 5,000 आधुनिक ईएमयू, एमईएमयू डिब्बों के विनिर्माण के लिए मंगाए गए। इसकी अच्छी प्रतिक्रिया मिली। इसके तहत कनाडा की बांबार्डियर, जर्मनी की सीमेंस कंसोर्सियम, फ्रांस की अल्सटॉम, चीन के सीआरआरसी कॉर्पोरेशन कंसोर्सियम, स्विटजरलैंड से स्टाडलर और भारत की मेधा कंसोर्सियम और भेल वित्तीय बोलियां लगाने के लिए पात्र पाई गईं। प्रस्तावित संयुक्त उद्यम में रेलवे की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। यह भी पढ़ें: नई टेक्नोलॉजी के साथ सिर्फ 1500 रुपए में मिलेगा नया 4G मोबाइल, ये कंपनी कर रही है तैयारी