1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. रैंसमवेयर साइबर हमले का बिजली सप्लाई पर नहीं होगा कोई असर, पावरग्रिड ने बचने के किए उपाय

रैंसमवेयर साइबर हमले का बिजली सप्लाई पर नहीं होगा कोई असर, पावरग्रिड ने बचने के किए उपाय

पावर ग्रिड ने कहा कि उसने वैश्विक साइबर हमले रैंसमवेयर से बचने के लिए पर्याप्त उपाय किए हैं और इसके कारण बिजली की सप्लाई बाधित नहीं होगी।

Dharmender Chaudhary | May 15, 2017 | 4:34 PM
रैंसमवेयर साइबर हमले का बिजली सप्लाई पर नहीं होगा कोई असर, पावरग्रिड ने बचने के किए उपाय

नई दिल्ली। केंद्रीय बिजली ट्रांसमिशन कंपनी पावर ग्रिड ने कहा कि उसने वैश्विक साइबर हमले रैंसमवेयर से बचने के लिए पर्याप्त उपाय किए हैं। ग्राहकों को इसके कारण आपूर्ति को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है। कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पावर ग्रिड के आला अधिकारियों ने रैंसमवेयर से निपटने की रणनीति पर विचार किया। यह भी पढ़ें: 22 साल के इस लड़के ने 700 रुपए में निकाला रैनसमवेयर वायरस का तोड़, जानिए कैसे

अधिकारी ने कहा, चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक आई एस झा की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। चूंकि पावर ग्रिड का परिचालन आईटी पर आधारित है इसलिए विस्तार से विचार विमर्श किया गया। अधिकारी के अनुसार कर्मचारियों से कहा गया है कि वे संदिग्ध ईमेल नहीं खोलें और न ही फाइल डाउनलोड करें। उन्होंने कहा, कुछ बैंकों व अन्य क्षेत्रों के प्रभावित होने के समाचार हैं। लेकिन हमारे मामले में हमने अपनी प्रणाली के संरक्षण के लिए पर्याप्य उपाय फायरवाल की व्यवस्था किए हैं।

रैंसमवेयर एक ऐसा गड़बड़ी पैदा करने वाला साफ्टवेयर है जिससे प्रभावित होते ही कंप्यूटर की सभी फाइल लॉक हो जा रही हैं। साइबर अपराधी उपकरणों को ठीक करने के लिए 300 अमेरिकी डॉलर मूल्य की डिजिटल मुद्रा बिटक्वाइन की मांग कर रहे हैं। यह मालवेयर ई-मेल के जरिए फैलता है। उल्लेखनीय है कि सप्ताहांत तक इस रैंसमवेयर के जरिए रूस और ब्रिटेन समेत 100 से अधिक देशों के कंप्यूटर सिस्टम पर साइबर हमला किया गया है। यह अब तक के इतिहास का सबसे व्यापक तौर पर फैलने वाला रैंसमवेयर है। यह भी पढ़ें: इस साल रेपो रेट में नहीं होगा कोई बदलाव, 2018 में हो सकती है आधा फीसदी तक की वृद्धि

Write a comment