1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. साइबर अटैक: भारतीय आईटी सिस्टम पर वानाक्राई का खास असर नहीं, भारत में रैंसमवेयर हमले की छिटपुट घटनाएं

साइबर अटैक: भारतीय आईटी सिस्टम पर वानाक्राई का खास असर नहीं, भारत में रैंसमवेयर हमले की छिटपुट घटनाएं

दुनिया के कई देशों को प्रभावित करने वाले साइबर हमले रैंसमवेयर का असर पांच छह छिटपुट घटनाओं तक सीमित है। आईटी तंत्र में किसी बड़ी बाधा की रिपोर्ट नहीं है।

Dharmender Chaudhary | May 16, 2017 | 4:54 PM
साइबर अटैक: भारतीय आईटी सिस्टम पर वानाक्राई का खास असर नहीं, भारत में रैंसमवेयर हमले की छिटपुट घटनाएं

नई दिल्ली। सरकार ने फिर कहा कि दुनिया के कई देशों को प्रभावित करने वाले साइबर हमले रैंसमवेयर का भारत में असर पांच छह छिटपुट घटनाओं तक सीमित है। इसके कारण देश के आईटी तंत्र में किसी बड़ी बाधा की रिपोर्ट नहीं है। सूचना प्रौद्योगिकी सचिव अरूण सुंदरराजन ने एक कार्यक्रम के अवसर पर कहा कि बहु-एजेंसी टीम हालात पर लगातार निगरानी रखे हुए है। यह भी पढ़ें: वोडाफोन का परिचालन लाभ 2016-17 में 10.2 प्रतिशत घटा, कड़ी प्रतिस्पर्धा का दिखा असर

सुंदरराजन ने कहा, इस तरह का एक मामला आंध्र प्रदेश के 18 कंप्यूटरों से जुड़ा है, पांच अन्य मामले हैं। इनमें से एक मामला केरल का है जहां पंचायत के कुछ कंप्यूटर प्रभावित हुए हैं। सुंदरराजन ने कहा कि उक्त सभी मामले अलग से काम करने वाली प्रणालियों या एकल मशीनों से जुड़े हैं। सचिव ने कहा, सरकार मार्च से ही पूरी तरह सतर्क थी। जहां तक नेटवर्कों का सवाल है तो हम जरूरी सुरक्षा पैचेज पहले ही इंस्टाल कर चुके थे। हमें रैंसमवेयर के किसी बड़े असर की कोई रिपोर्ट नहीं है।

भारत की साइबर सुरक्षा इकाई सीईआरटी-इन ने इससे पहले कहा कि उसे देश के किसी विशेष नेटवर्क पर साइबर हमले की कोई औपचारिक रपट नहीं मिली है। इस बीच साइबर सुरक्षा समाधान उपलब्ध कराने वाली क्विकहील ने कहा कि उसने देश में 48000 से अधिक रैंसमवेयर हमला प्रयासों का पता लगाया है। इस तरह के सबसे अधिक मामले पश्चिम बंगाल में देखने को मिले हैं। यह भी पढ़ें: मारुति सुजुकी ने नए अंदाज के साथ लॉन्‍च की नई डिजायर, कीमत 5.45 लाख रुपए से शुरू

क्विकहील ने एक बयान में कहा है कि उसने 48000 से अधिक एमएस 17-010 शेडो ब्रोकर हिट्स पकड़े हैं जो कि भारत में वानाक्र्राई रैंसमवेयर के लिए जिम्मेदार है। उल्लेखनीय है कि वानाक्राई ने रूस व ब्रिटेन सहित 150 से अधिक देशों के कंप्यूटर नेटवर्क को प्रभावित किया है इसे अब तक का सबसे बड़ा साइबर हमला बताया जा रहा है। रिपोर्टों के अनुसार इस मालवेयर ने दुनिया भर में दो लाख से अधिक सिस्टम को प्रभावित किया है। वानाक्राई कंप्यूटर को बुरी तरह से प्रभावित करता है और उस पर फाइलों तक पहुंचने के रास्ते को लॉक कर देता है।

Write a comment