1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. मोदी ने एशिया-अफ्रीका विकास गलियारा की वकालत की, इंडिया बनेगा ग्रोथ इंजन

मोदी ने एशिया-अफ्रीका विकास गलियारा की वकालत की, इंडिया बनेगा ग्रोथ इंजन

प्रधानमंत्री मोदी ने जापान और भारत के समर्थन से एशिया-अफ्रीका विकास गलियारा बनाए जाने पर जोर दिया है। वन बेल्ट, वन रोड के बाद मोदी ने आह्वान किया है।

Dharmender Chaudhary | May 23, 2017 | 3:11 PM
मोदी ने एशिया-अफ्रीका विकास गलियारा की वकालत की, इंडिया बनेगा ग्रोथ इंजन

गांधीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जापान और भारत के समर्थन से एशिया- अफ्रीका विकास गलियारा बनाए जाने पर जोर दिया है। चीन की महत्वकांक्षी वन बेल्ट, वन रोड पहल के कुछ ही दिन बाद प्रधानमंत्री की तरफ से यह आह्वान किया गया है। मोदी ने कहा, भारत की अफ्रीका के साथ भागीदारी सहयोग के मॉडल पर आधारित है। यह अफ्रीकी देशों की जरूरतों के अनुरूप है। यह भी पढ़ें: सिर्फ 12 रुपए में Spicejet के साथ कीजिए हवाई सफर

प्रधानमंत्री ने यहां अफ्रीकी विकास बैंक समूह की 52वीं वार्षिक आम बैठक का उद्घाटन करने के मौके पर यह बात कही। यह बैठक भारत में पहली बार हो रही है। अफ्रीका और एशियाई देशों के बीच आर्थिक वृद्धि का गलियारा बनाए जाने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि उनकी हाल की जापान यात्रा के दौरान इस बारे में बातचीत हुई थी। भारत की तरफ से यह मुद्दा ऐसे समय उठाया गया है जब चीन ने अरबों डॉलर की वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर) योजना की पहल की है। यह परियोजना चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग की पसंदीदा योजनाओं में है। इसके जरिए यूरोपएशिया भूभाग को हिन्द्र-प्रशांत समुद्री मार्ग से जोड़ने का कार्यक्रम है।

मोदी ने कहा, मेरी जापान यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री शिंजो अबे के साथ मेरी बैठक में, मैं प्रसन्नता के साथ यह कहना चाहूंगा कि हमारे संयुक्त घोषणापत्र में हमने एशिया-अफ्रीका विकास गलियारा को भी शामिल किया था। इसके लिए हमारे अफ्रीका के भाईयों एवं बहिनों के साथ आगे बातचीत का प्रस्ताव रखा गया था। मोदी ने कहा कि इस विकास गलियारे को आगे कैसे बढ़ाया जाएगा इसके लिए भारत और जापान के शोध संस्थानों ने अफ्रीकी शोध संस्थाओं के साथ विचार विमर्श कर इसके लिये दृष्टिकोण दस्तावेज तैयार किया है। उन्होंने कहा कि इस दृष्टिकोण पत्र को बाद में बोर्ड की बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके पीछे यही विचार है कि भारत, जापान और दूसरे भागीदारी कौशल, ढांचागत सुविधाओं, विनिर्माण और कनेक्टिविटी के क्षेत्र में संयुक्त तौर पर की जाने वाली पहल के लिये आगे आएं। उन्होंने कहा कि आर्थिक वृद्धि के मामले में अफ्रीका को भारत की प्राथमिकता सूची में सबसे शीर्ष पर रखा गया है। यह भी पढ़ें: आज से शुरू हो रहा है Paytm का पेमेंट्स बैंक, जमा पैसों पर मिलेगा ब्‍याज और ATM की सुविधा

Write a comment