1. Home
  2. My Profit
  3. Stocks
  4. #ModiGovernment3Saal: मोदी के कार्यकाल में निवेशक हुए मालामाल, ऐसे 5 हजार रुपए लगाकर कमाए 3 लाख

#ModiGovernment3Saal: मोदी के कार्यकाल में निवेशक हुए मालामाल, ऐसे 5 हजार रुपए लगाकर कमाए 3 लाख

मोदी सरकार के कार्यकाल में स्मॉलकैप कंपनी यूनिप्लाई इंडस्ट्रीज, मंगलम ड्रग्स, क्यूपिड, इंडो काउंट इंडस्ट्रीज के शेयरों ने 6000% का बड़ा रिटर्न दिया है।

Ankit Tyagi | May 26, 2017 | 2:06 PM
#ModiGovernment3Saal: मोदी के कार्यकाल में निवेशक हुए मालामाल, ऐसे 5 हजार रुपए लगाकर कमाए 3 लाख

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार के कार्यकाल को तीन साल बीत चुके है। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी ने निवेशकों को 7 फीसदी का रिटर्न दिया है। जबकि, स्मॉलकैप कंपनियों के शेयरों ने निवेशकों को मालामाल कर दिया है। मतलब साफ है यूनिप्लाई इंडस्ट्रीज, मंगलम ड्रग्स, क्यूपिड, इंडो काउंट इंडस्ट्रीज, द्वारिकेश शुगर्स जैसे शेयर में अगर किसी इन्वेस्टर्स ने 5 हजार रुपए का निवेश किया होता तो वह बढ़कर 3.20 लाख रुपए हो जाता। एक्सपर्ट मानते हैं कि इस तरह के मौके हमेशा स्टॉक मार्केट में होते है, लेकिन इनको पहचाने हुनर आदमी को डेवल्प करना होता है। हमेशा निवेशक को कंपनियों के फंडामेंटल और आगे की ग्रोथ संभावनाएं के बारे में जानने की कोशिश करनी चाहिए।Money Making Idea: ये हैं 50 रुपए से सस्ते 5 शेयर, शॉर्ट टर्म में बड़े रिटर्न की उम्मीद

इन शेयरों ने किया मालामाल

No ये आंकड़े मनीकंट्रोल और कैपिटल लाइन से लिए गए है..

ऐसे 5 हजार रुपए का निवेश हुआ 3 लाख

मोदी सरकार के समय में मिडकैप और स्मॉलकैप कंपनियों के शेयरों ने जोरदार प्रदर्शन किया है। इस लिस्ट में यूनिप्लाई इंडस्ट्रीज का शेयर सबसे ऊपर है। इस शेयर ने पिछले 3 साल में 6307 फीसदी का रिटर्न दिया है। 16 मई 2014 को कंपनी के शेयर का बंद भाव 5.2 रुपए था। जो कि अब (सोमवार) बढ़कर 340 रुपए हो गया यानी कि किसी निवेशक ने 5 हजार रुपए में 5.2 रुपए के भाव शेयर खरीदे होते तो अब उनका इन्वेस्टमेंट बढ़कर 3.2 लाख रुपए हो जाता।यह भी पढ़े: बढ़ते विदेशी निवेश के चलते निफ्टी छुएगा 10 हजार का स्तर, इस तेजी में ये शेयर कराएंगे कमाई

No

इस स्ट्रैटेजी के साथ मार्केट में मिलते है अच्छे रिटर्न

एक्सपर्ट्स का कहन है कि लंबी अवधि और बेहतर डिविडेंड के रिकॉर्ड वाले शेयरों में निवेश की सलाह है। वहीं स्टॉक्स में  एकमुश्त बड़े निवेश की जगह नियमित और छोटे निवेश की सलाह है। छोटे निवेश की वजह से जोखिम कम होता है नियमित निवेश की वजह से गिरावट के समय कीमतों का औसत घटता है और नुकसान सीमित होता है। स्टॉक मार्केट में ऐसे शेयरों की संख्या काफी ज्यादा है, जिनकी कीमत 50 रुपए से 500 रुपए के बीच हैं। इनमें से कई शेयर ऐसे हैं, जिन शेयरों के फंडामेंटल मजबूत माने जाते हैं।  मार्केट एक्सपर्ट के मुताबिक, निवेशक हर महीने छोटी रकम के साथ इन शेयरों को खरीद कर रख सकते हैं।यह भी पढ़े: 10th Anniversory: IPL है 27,000 करोड़ रुपए का खेल, जानिए टीम कैसे करती हैं कमाई

No

ध्यान रखें कि निवेश की जाने वाली रकम इतनी हो, जो आपके बजट या बचत किसी को भी प्रभावित न करे। ऐसे निवेश काफी लंबी अवधि के होते हैं, इसलिए शेयरों के चयन के लिए थोड़ी रिसर्च की जरूरत होगी। इसके लिए आप किसी भरोसे के एक्सपर्ट की सलाह ले सकते हैं। किसी शेयर में कब तक निवेश करना है इसका भी फैसला रिसर्च के आधार पर लिया जा सकता है। ध्यान रखें कि स्टॉक का चुनाव सबसे अहम है इसलिए किसी भी सलाह पर फैसला लेते वक्त अपने स्तर पर भी जांच अवश्य करें। बेहद छोटी रकम के साथ आप कुछ समय में कई अच्छे शेयरों का पोर्टफोलियो बना सकते हैं। छोटे निवेश की वजह से आप इन शेयरों को लंबी अवधि के लिए भी छोड़ सकते हैं अगर इनमें से किसी भी शेयर में ग्रोथ इंफोसिस या रिलायंस इंडस्ट्रीज के हिसाब से होती है तो छोटी रकम की मदद से आप करोड़पति बन सकते हैं।

अब क्या करें निवेशक

ज्वाइंड्रे कैपिटल के अविनाश गोरक्षकर का कहना है कि बाजार में ऊपरी स्तर से बिकवाली देखने को मिल सकती है। जिस प्रकार से 2-3 दिनों में कंपनियों ने अच्छे नतीजे पेश किए है उससे बाजार वित्त वर्ष 2018 के अर्निंग के नजरिये से अच्छा प्रदर्शन करने का अनुमान लगा रही है। लिहाजा निवेशकों को गिरावट पर खरीदारी करनी चाहिए।

No

लॉर्जकैप मिडकैप सेक्टर में जिस प्रकार से प्राइस में बढ़त हुई है। उससे बाजार में छोटे-मझोले शेयर में काफी अच्छा प्राइस रीवार्ड बना हुआ है। इसलिए स्मॉल मिडकैप सेक्टर में अच्छा प्रदर्शन देखने को मिला है और इनमें आनेवाले समय में भी तेजी रहने की उम्मीद है। मिडकैप सेक्टर में एग्री थीम काफी अच्छा प्रदर्शन कर रही है। लिहाजा तिमाही नतीजों को ध्यान में रखकर पीआई इंडस्ट्रीज में खरीदारी की जा सकती है।

Write a comment