1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के साथ टाटा बनाएगा F-16 लड़ाकू विमान, मोदी के दौरे से पहले हुआ अहम करार

अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के साथ टाटा बनाएगा F-16 लड़ाकू विमान, मोदी के दौरे से पहले हुआ अहम करार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मेक इन इंडिया' पहल को बड़ी सफलता मिली है। दुनिया के सबसे एडवांस फाइटर प्‍लेन F-16 का निर्माण अब भारत में होगा।

Sachin Chaturvedi | Jun 19, 2017 | 8:09 PM
अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के साथ टाटा बनाएगा F-16 लड़ाकू विमान, मोदी के दौरे से पहले हुआ अहम करार

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मेक इन इंडिया‘ पहल को बड़ी सफलता मिली है। दुनिया के सबसे एडवांस फाइटर प्‍लेन F-16 का निर्माण अब भारत में होगा। अमेरिका की एयरोस्पेस कंपनी लॉकहीड मार्टिन ने आज भारत के टाटा समूह की कंपनी टाटा अडवांस्ड सिस्टम्स के साथ करार किया है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति की अमेरिका फर्स्‍ट नीति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इसी महीने प्रस्‍तावित यात्रा से पहले यह करार बेहद अहम माना जा रहा है।

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार लॉकहीड मार्टिन और टाटा ने पेरिस एयरशो के दौरान अपने इस करार के बारे में घोषणा की है। एग्रीमेंट की घोषणा करते हुए दोनों कंपनियों ने कहा कि F-16 लड़ाकू विमानों का उत्‍पादन भारत में होने से अमेरिका में नौकरियों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। दोनों कंपनियों कहा, ‘ इसका फायदा दोनों देशों को होगा। F-16 का उत्पादन भारत में होने से भारत और अमेरिका में नई जॉब्स पैदा होंगी।’ साझा बयान के मुताबिक, भारत F-16 लड़ाकू विमानों को दुनिया के अन्य देशों को भी निर्यात कर सकता है। दुनिया के 26 देश 3,200 F-16 लड़ाकू विमानों का प्रयोग करते हैं। भारत को इस सीरीज का ब्लॉक 70 ऑफर किया जा रहा है जो सबसे नया मॉडल है। टाटा पहले से ही C-130 मिलिटरी ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट के कंपोनेंट बना रहा है। यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने उठाया डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग पॉलिसी से पर्दा, भारतीय कंपनियां भी बनाएंगी सबमरीन और फाइटर प्लेन

इस साल कुर्सी संभालने वाले अमेरिकी राष्‍ट्रपति का पूरा जोर ‘अमेरिका फर्स्ट’ नीति की नीति पर है। जिसके तहत अमेरिकी सरकार प्रमुख कंपनियों को अमेरिका में ही निवेश बढ़ाने पर जोर दे रही है, जिससे स्‍थानीय युवाओं को अधिक संख्‍या में रोजगार उपलब्‍ध कराया जा सके। कुछ ऐसी ही नीति भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी है, जो मेक इन इंडिया के तहत भारत को दुनिया का मैन्‍युफैक्‍चरिंग हब बनाना चाहते हैं। इसके तहत पिछले महीने सरकार डिफेंस मैन्‍युफैक्‍चरिंग में निजी निवेश बढ़ाने से जुड़ी नीति भी लागू कर चुकी है। पीएम मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ नीति और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की ‘अमेरिका फर्स्ट’ नीति यहीं पर आपस मे टकरा रही हैं। यह भी पढ़ें: भारत में इसी महीने आईफोन एसई का उत्पादन शुरू करेगी एप्पल, बाजार पर कब्जा करने की कोशिश

Write a comment