1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. संरक्षणवाद पर बोले जेटली, कहा- कायम रहेगा उदारीकरण

संरक्षणवाद पर बोले जेटली, कहा- कायम रहेगा उदारीकरण

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संरक्षणवाद पर आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा कि एक बार इस मुद्दे पर बहस थम जाने के बाद और अधिक उदारीकरण की जरूरत कायम रहेगी।

Dharmender Chaudhary | May 8, 2017 | 7:52 PM
संरक्षणवाद पर बोले जेटली, कहा- कायम रहेगा उदारीकरण

तोक्यो। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संरक्षणवाद पर आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा कि एक बार इस मुद्दे पर बहस थम जाने के बाद और अधिक उदारीकरण की जरूरत कायम रहेगी। अंतरराष्ट्रीय वित्त संस्थान (आईआईएफ) में एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि संरक्षणवाद का विचार वैश्विक स्तर पर फैलेगा और इसका भारत जैसी अर्थव्यवस्थाओं पर असर पड़ेगा। यह भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र ने कालाधन को रोकने के लिए नोटबंदी को बताया नाकाफी, कहा- और कदमों की जरूरत

वित्त मंत्री ने कहा कि कमजोर वैश्विक वातावरण के बावजूद भारत सात प्रतिशत की दर से वृद्धि दर्ज करता रहेगा। उन्होंने कहा कि सरकार के ऊंचे मूल्य के नोट बंद करने के कदम से निजी उपभोग पर पड़ा नकारात्मक प्रभाव अस्थाई होगा। उन्होंने कहा, हम दुनिया में संरक्षणवाद को लेकर कुछ आवाजें सुन रहे हैं। लेकिन अंत में कंपनियों, उपभोक्ताओं को यह तय करना है कि उन्हें ऐसे उत्पाद और सेवाएं चाहिए जो लागत की दृष्टि से प्रतिस्पर्धी हैं।

वित्त मंत्री ने कहा, ऐसे में मैं उम्मीद करता हूं कि संरक्षणवाद पर बहस आज या कल समाप्त हो जाएगी और अधिक वैश्विक एकीकरण और बेहतर व्यापार की जरूरत कायम रहेगी। जेटली ने कहा कि भारत का अनुभव है कि एकीकरण और अधिक उदारीकरण से अर्थव्यवस्था और व्यापार बढ़ता है। दूसरी ओर वित्त मंत्री ने कहा कि वस्तु एवं सेवाकर जीएसटी एक जुलाई से लागू होना तय है और इससे वस्तुओं के दाम में कोई महत्वपूर्ण वृद्धि नहीं होगी, यद्यपि कुछ सेवाओं की लागत में मामूली वृद्धि हो सकती है। यह भी पढ़ें: होम लोन ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, 30 लाख तक के लोन पर SBI ने घटाई ब्‍याज दरें

Write a comment