1. Home
  2. My Profit
  3. Loans
  4. फोन पर Home Loan ऑफर करने वाले बैंक आखिर क्‍यों रद्द कर देते हैं अप्लिकेशन  

फोन पर Home Loan ऑफर करने वाले बैंक आखिर क्‍यों रद्द कर देते हैं अप्लिकेशन  

Home Loan मंजूर करने से पहले बैंक यह जांच करते हैं कि आवेदक की मासिक आय न्यूनतम आय जरूरतों को पूरा करती है या नहीं और क्रेडिट रिपोर्ट कितनी साफ-सुथरी है।

Sachin Chaturvedi | Oct 17, 2016 | 9:13 AM
फोन पर Home Loan ऑफर करने वाले बैंक आखिर क्‍यों रद्द कर देते हैं अप्लिकेशन   

नई दिल्‍ली। बैंक के मार्केटिंग डिपार्टमेंट से ज्‍यादातर नौकरीपेशा लोगों को फिक्स्ड डिपॉजिट, पर्सनल लोन और Home Loan के लिए फोन आते रहते हैं। कभी-कभार उनका कहना होता है कि Home Loan और पर्सनल लोन को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है बस ग्राहक के हां कहने भर की देर है। कॉल पर यह भी बताया जाता है कि कोई दस्तावेज भी नहीं देना होगा। एक आम आदमी के लिए तो यह ऑफर काफी आकर्षक होता है और वह समझता है कि Home Loan लेना अब उसके लिए आसान सी बात हो गई है। लेकिन जब वास्तव में वह व्यक्ति बैंक जाकर Home Loan के लिए आवेदन करता है तो आवेदन रद्द कर दिया जाता है।

यह भी पढ़ें : सरकारी कर्मचारियों को PNB दे रहा है आकर्षक दरों पर Home और Car Loan

ये हैं होम लोन का आवेदन रद्द होने की वजहें

  • कर्ज लेने वालों की क्रेडिट हिस्ट्री होम लोन लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
  • क्रेडिट हिस्ट्री वास्तव में किसी व्‍यक्ति की फाइनेंशियल रिपोर्ट कार्ड होती है।
  • कोई भी बैंक लोन मंजूर करने के दौरान इस पर गौर फरमाता है।
  • इसमें आवेदक पर बकाया तमाम कर्ज या विलंबित भुगतानों की जानकारी होती है।
  • अगर क्रेडिट स्‍कोर खराब हुआ तो बैंक लोन नहीं देते।
  • होम लोन की मंजूरी के लिए किसी का व्यक्तिगत प्रोफाइल काफी महत्वपूर्ण होता है।
  • इसमें व्यक्ति की शिक्षा, पेशा, आश्रितों की संख्या, वर्तमान परिसंपत्तियां, बचत, बीमा पॉलिसियां आदि शामिल होती हैं।
  • आश्रितों की संख्या अधिक होने या वर्तमान देनदारियां अधिक होने का मतलब होता है कि रीपेमेंट की क्षमता अपेक्षाकृत कम होगी।

यह भी पढ़ें : क्रेडिट कार्ड से लेने जा रहे हैं पर्सनल लोन, फैसले से पहले जान लीजिए इसके फायदे और नुकसान

लोन लेने वाली की फाइनेंशियल स्थिति

  • आपके Home Loan की एलिजिबिलिटी और कर्ज की राशि आपकी सालाना आय पर अधिक निर्भर करती है।
  • होम लोन मंजूर करने से पहले बैंक यह जांच करते हैं कि आवेदक की मासिक आय न्यूनतम आय जरूरतों को पूरा करती है या नहीं।
  • उसकी कमाई में निश्चित आय का क्या अनुपात है और क्रेडिट रिपोर्ट कितनी साफ-सुथरी है।
  • एक व्यक्ति जिसकी आय नियमित बनी हुई है और जिसने नौकरी भी जल्दी-जल्दी नहीं बदली है उसके डिफॉल्ट करने के चांस कम होते हैं।
  • ऐसे लोगों को होम लोन आसानी से मिल जाता है।

लोकेशन का महत्व

  • बैंक खास-खास लोकेशंस के लिए लोन नहीं देते हैं।
  • बैंक और वित्तीय संस्थान किसी खास लोकेशन को ब्लैक् लिस्ट कर देते हैं।
  • इसलिए Home Loan लेने से पहले यह जांच लें कि प्रॉपर्टी ब्लैक लिस्टेड लोकेशंस में तो नहीं है।
Write a comment