1. Home
  2. My Profit
  3. Car
  4. पीएम मोदी इस खास गाड़ी से पहुंचे केदारनाथ मंदिर, आप भी खरीद सकते हैं इसे

पीएम मोदी इस खास गाड़ी से पहुंचे केदारनाथ मंदिर, आप भी खरीद सकते हैं इसे

प्रधानमंत्री को जिस गाड़ी ने आसानी से केदारनाथ तक पहुंचाया वह पोलारिस की ऑफ रोडर रेंजर 6X6 है। इस गाड़ी को आप भी खरीद सकते हैं। इसकी कीमत 20 लाख रुपए है।

Dharmender Chaudhary | May 3, 2017 | 4:56 PM
पीएम मोदी इस खास गाड़ी से पहुंचे केदारनाथ मंदिर, आप भी खरीद सकते हैं इसे

नई दिल्ली। केदारनाथ मंदिर अपने दुर्गम रास्तों के लिए जाना जाता है। आज आपने न्यूज चैनलों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केदारनाथ मंदिर के दर्शन करते देखा होगा। इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी बिना पैदल चले और बिना किसी परेशानी के पहाड़ी रास्तों से होते हुए मंदिर तक पहुंचे। प्रधानमंत्री को जिस गाड़ी ने आसानी से मंदिर तक पहुंचाया वह पोलारिस की ऑफ रोडर रेंजर 6X6 है। इस गाड़ी को आप भी खरीद सकते हैं। आइए हम आपको रेंजर 6X6 की पूरी जानकारी देते हैं।

कीमत है 20 लाख रुपए

दिल्ली के अर्जनगढ़ स्थिर पोलारिस के डिस्ट्रीब्यूटर टेक्नो ऑटोमोबाइल्स के जनरल मैनेजर तुषार पॉल ने बाताया कि रेंजर 6X6 की भारत में कीमत लगभग 20 लाख रुपए है। कंपनी देशभर में सालभर में 500 गाड़ियां बेचती है। तुषार के मुताबिक ज्यादातर गाड़ियों की डिमांड आर्मी की ओर से आती है। इसका बर्फीले, रेतीले और पहाड़ी इलाकों में इस्तेमाल होता है। यह भी पढ़ें: iPhone की बिक्री में आई आश्‍चर्यजनक गिरावट, लेकिन बढ़ी Apple की कमाई

No

ये हैं रेंजर्स 6X6 के फीचर्स

आपने 4X4 तो सुना होगा लिकिन मोदी जिस गाड़ी से केदारनाश मंदिर पहुंचे थे वह 6X6 है। अगर सरल भाषा में समझें तो पीछे के 4 और आगे के 2 व्‍हील एक साथ  गाड़ी को आगे या पीछे चलाने के लिए जोर लगाते हैं। पोलारिस रेंजर 6X6 में 760 सीसी का 4 स्ट्रॉक ट्विन सिलेंडर इंजन लगा है, जो 40 होर्स पावर (एचपी) की शक्ति पैदा करता है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक फ्यूल इंजेक्शन लगा है। यह गाड़ी ऑटोमैटिक है और यह 34.1 लीटर के पेट्रोल फ्यूल टैंक से लैस है। रेंजर में 907 किलो तक वजन खींचने की क्षमता है। यह भी पढ़ें: RTI से हुआ बड़ा खुलासा: IRCTC ने 100 ग्राम दही 972 रुपए में और एक लीटर रिफाइंड 1241 रुपए में खरीदा

नहीं कराना पड़ता है रजिस्‍ट्रेशन

यह गाड़ी ऑफरोडिंग के लिए विशेषतौर पर तैयार की गई है। इसका इस्‍तेमाल सड़कों पर सामान्‍य परिवहन के लिए नहीं किया जाता है। यही वजह है कि इस गाड़ी को खरीदने के लिए रजिस्‍ट्रेशन की आवश्‍यकता नहीं होती है।