1. Home
  2. My Profit
  3. News To Use
  4. ट्रेन में सफर के दौरान मददगार बनेगा TC, रेलवे ने ड्यूटी और जिम्मेदारियों में किया बड़ा बदलाव

ट्रेन में सफर के दौरान मददगार बनेगा TC, रेलवे ने ड्यूटी और जिम्मेदारियों में किया बड़ा बदलाव

ट्रेन में सफर करने वालों के सफर को सुगम बनाने के लिए रेलवे ने बड़ा कदम उठाया है। रेलवे ने ट्रेन कंडक्टरों की ड्यूटी और जिम्मेदारियों में बदलाव किए हैं।

Ankit Tyagi | Jun 17, 2017 | 12:43 PM
ट्रेन में सफर के दौरान मददगार बनेगा TC, रेलवे ने ड्यूटी और जिम्मेदारियों में किया बड़ा बदलाव

नई दिल्ली। ट्रेन में सफर करने वालों के सफर को सुगम बनाने के लिए रेलवे ने बड़ा कदम उठाया है। रेलवे ने ट्रेन कंडक्टरों की ड्यूटी और जिम्मेदारियों में बदलाव किए हैं। अब कंडक्टर सफर के दौरान यात्रियों को मिलने वाली सुविधाओं पर तो नजर रखेंगे ही, साथ ही वह यह भी देखेंगे कि बच्चों की तस्करी के लिए ट्रेन का इस्तेमाल न हो। इसके लिए उन्हें कहा गया है कि वे सफर के दौरान ऐसे संदिग्ध लोगों पर भी नजर रखेंगे।यह भी पढ़े: सिर्फ 3 रुपए में ऐसे बुक कराएं बिना इन्टरनेट के अपना ट्रेन टिकट, समझिए पूरा प्रोसेस

No

ड्यूटी में शामिल हुई ये नई जिम्मेदारियां
रेलवे की ओर से ट्रेन कंडक्टरों के लिए हाल में जारी गाइड लाइन में कहा गया है कि जिस स्टेशन से ट्रेन शुरू होनी है, वहां ट्रेन कंडक्टर को ट्रेन रवाना होने से कम से कम एक घंटे पहले पहुंचना होगा और अगर कंडक्टर को बीच में किसी स्टेशन से अपनी डयूटी शुरू करनी है तो उसे वहां भी आधा घंटा पहले पहुंचना होगा।यह भी पढ़ें: ट्रेन सफर 10 फीसदी तक होगा महंगा, किराया बढ़ाने के इन पांच तरीकों पर प्रभु कर रहे हैं विचार

No

टॉयलेट में पानी की जिम्मेदारी भी TC की होगी
कंडक्टर यह भी सुनिश्चित करेगा कि कोच में कोई अनधिकृत व्यक्ति न हो। महत्वपूर्ण है कि वह ये भी चेक करेगा कि टॉयलेट में नल ठीक से काम कर रहे हैं या नहीं। इसी तरह से कंडक्टर की जिम्मेदारी होगी कि रात 10 बजे से सुबह 6 बजे के बीच कोच का गेट बंद रहे।यह भी पढ़ें: ट्रेन में मिलेगा बच्‍चों को गर्म और हाइजेनिक दूध, रेलयात्री डॉट इन ने शुरू की मिल्‍क डिलीवरी सर्विस

No

सफाई का भी रखना होगा ध्यान
ट्रेन में सफाई नहीं है तो ऑन बोर्ड सफाई कर्मचारियों से सफाई कराने की जिम्मेदारी भी उसी की होगी। वह अपने पास कंप्लेन बुक रखेगा और यह भी सुनिश्चित करेगा कि अगर ट्रेन में खाने को लेकर यात्रियों की शिकायत है तो खाना परोसने वाले कर्मचारियों से वह पैसिंजरों को उपलब्ध कराए।

No

FIR के लिए ब्लैंक फॉर्म भी रखना होगा
वह अपने पास भी कंप्लेन बुक रखेगा। इसके अलावा वह एफआईआर के ब्लैंक फॉर्म भी रखना उसकी जिम्मेदारी होगी ताकि क्राइम होने पर फॉर्म भर कर उसे पुलिस को दिया जा सके। ट्रेन में यात्री को सिगरेट पीते पकड़ने पर भी वह ऐक्शन ले सकेगा।

तस्‍वीरों में देखिए भारत की लग्‍जरी ट्रेनों को

Write a comment