1. Home
  2. My Profit
  3. Gadgets
  4. 36.5 मिलियन एंड्रॉयड यूजर्स पर Judy मैलवेयर का हमला, ऐसे रखें अपने स्‍मार्टफोन को सुरक्षित

36.5 मिलियन एंड्रॉयड यूजर्स पर Judy मैलवेयर का हमला, ऐसे रखें अपने स्‍मार्टफोन को सुरक्षित

नए मैलवेयर को Judy नाम दिया गया है। इससे सबसे बड़ा खतरा एंड्रॉयड स्‍मार्टफोन को है। यह मैलवेयर गूगल प्ल स्टोर के लगभग 41 ऐप्स को निशाना बना चुका है।

Sachin Chaturvedi | May 29, 2017 | 8:55 PM
36.5 मिलियन एंड्रॉयड यूजर्स पर Judy मैलवेयर का हमला, ऐसे रखें अपने स्‍मार्टफोन को सुरक्षित

नई दिल्ली। इसी महीने हड़कंप मचाने वाले रैनसमवेयर नामक वायरस का खतरा पूरी तरह टला भी नहीं था कि एक और मैलवेयर ने हमला कर दिया है। नए मैलवेयर को Judy नाम दिया गया है। इससे सबसे बड़ा खतरा एंड्रॉयड स्‍मार्टफोन को है। यह मैलवेयर गूगल प्ल स्टोर के लगभग 41 ऐप्स को निशाना बना चुका है। इस वायरस की चपेट में करीब 3 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं।

साइबर सिक्योरिटी फर्म चेक प्वाइंट ने एंड्रॉयड के दर्जनों ऐप्स में मैलवेयर पाया है जो ऐड क्लिक सॉफ्टवेयर के तौर पर काम करते हैं। इसका मतलब है कि यूजर के डिवाइस में पॉप अप विज्ञापन भेज कर ऐसे खतरनाक मैलवेयर भेजे जाते हैं। हालांकि इस जानकारी के बाद गूगल ने इसे प्ले स्टोर से रिमूव करना शुरु कर दिया है। यही नहीं, रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि इसकी डाउनलोड संख्या 40 लाख से बढ़कर 1.8 करोड़ तक पहुंच गई थी। यह भी पढ़ें: 22 साल के इस लड़के ने 700 रुपए में निकाला रैनसमवेयर वायरस का तोड़, जानिए कैसे

कैसे हमला करता है Judy?

यह मैलवेयर URLs को ओपन कर एक कोड बनाता है। जैसे ही यूजर्स इन पर क्लिक करते हैं इनसे हैकर्स के लिए पेमेंट जेनरेट हो जाती है। यह एप्स को इंफेक्ट करता है जिससे यूजर्स के पास इंफेक्टेड लिंक आने लगते हैं। आपको बता दें कि जितने ज्यादा क्लिक्स होंगे उतना ही ज्यादा हैकर्स को रेवन्यू मिलेगा। यह भी पढ़ें :फ्लिपकार्ट पर लिस्‍ट हुआ नोकिया 3310 जैसा दिखने वाला ‘डारगो 3310’, कीमत 799 रुपए

कैसे रखें अपने स्‍मार्टफोन को सुरक्षित?

इस मैलवेयरसे बचने के लिए यूजर्स को किसी भी अनजाने लिंक पर क्लिक करने से बचना होगा। जो लिंक्स यूजर्स के काम के न हो उन पर क्लिक न करें। इस्तेमाल करते समय जो ads दिखाई देते हैं उनपर भी क्लिक न करें। साथ ही अपने डिवाइस में एंटी मैलवेयरसॉफ्टवेयर इंस्टॉल करें और समय-समय पर अपने फोन को स्कैन करें। ब्राउजर की सेटिंग्स के जरिए प्राइवेसी सिक्योरिटी को ज्यादा बेहतर बनाया जा सकता है।

तस्‍वीरों में देखिए Reliance Jio को सपोर्ट करने वाले स्‍मार्टफोन्‍स

Write a comment