1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. भारत में सुधारों के बढ़ने से वैश्विक निवेशक समुदाय के बीच गया सकारात्मक संदेश, USIBC ने की मोदी की तारीफ

भारत में सुधारों के बढ़ने से वैश्विक निवेशक समुदाय के बीच गया सकारात्मक संदेश, USIBC ने की मोदी की तारीफ

भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में जारी उदारीकरण से वैश्विक निवेशक समुदाय को यह सकारात्मक संदेश जा रहा है कि यह देश उद्योग-व्यवसाय के लिए तैयार है

Abhishek Shrivastava | May 24, 2017 | 1:40 PM
भारत में सुधारों के बढ़ने से वैश्विक निवेशक समुदाय के बीच गया सकारात्मक संदेश, USIBC ने की मोदी की तारीफ

वॉशिंगटन। भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में जारी उदारीकरण से वैश्विक निवेशक समुदाय को यह सकारात्मक संदेश जा रहा है कि यह देश उद्योग-व्यवसाय के लिए तैयार है और सुधारों की दिशा में आगे बढ़ रहा है। अमेरिका के एक व्यावसायिक संगठन ने यह बात कही है।

अमेरिका-भारत व्यावसायिक परिषद (USIBC) के अध्यक्ष मुकेश अघी ने कहा कि पिछले तीन साल के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह दिखा दिया है कि वह कड़े और परिवर्तनकारी फैसले लेने में सक्षम हैं। ऐसे फैसले जिनसे यह पता चल सके कि वैश्विक मंच पर भारत को किस तरह समझा जाता है।

अघी ने एक सवाल के जवाब में कहा, अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में उदारीकरण बढ़ने से वैश्विक निवेशक समुदाय के बीच यह संदेश गया है कि भारत कारोबार के लिए खुला नजरिया रखता है और वह सुधारों को आगे बढ़ाने के रास्ते पर है। वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) का क्रियान्वयन और दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता जैसे कानून पारित करना काफी महत्वपूर्ण है और यह राजनीतिक जीत है। यह भी पढ़ें: #Monsoon2017: अगले 6 दिन में केरल तट से टकराएगा मानसून, अल-नीनो की आशंका हुई कम

भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ कारवाई के लिए नोटबंदी भी जरूरी थी। यूएसआईबीसी के साथ 300 से अधिक अमेरिकी कंपनियां जुड़ी हैं। इसमें फॉर्च्‍यून-500 कंपनियां भी शामिल हैं, जो कि भारत में कारोबार कर रही हैं। यह भारत में अमेरिकी व्यावसायियों की विभिन्न मांगों को लेकर वकालत करता है। इसके अध्यक्ष का कहना है कि भारत में विभिन्न आर्थिक गतिविधियों से जुड़े संकेतक गौर करने योग्य हैं। यह भी पढ़ें: चीन को बड़ा झटका: सन 1989 के बाद मूडीज ने घटाई रेटिंग, आउटलुक को स्टेबल से घटाकर नेगेटिव किया

मुद्रास्फीति घट रही है। प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का आंकड़ा बढ़ रहा है। ऐसे समय जब पूरी दुनिया में एफडीआई गिर रहा है, भारत में बढ़ा है। शेयर बाजार में भी तेजी का रुख बना हुआ है। सेंसेक्स लगातार चढ़ रहा है और बंबई शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 2,000 अरब डॉलर पर पहुंच चुका है। ये सभी अर्थव्यवस्था की बेहतरी के संकेतक हैं।

Write a comment