1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. IOC का शुद्ध लाभ 85 प्रतिशत बढ़ा, पीसी ज्‍वेलर्स को हुआ 110 करोड़ रुपए का मुनाफा

IOC का शुद्ध लाभ 85 प्रतिशत बढ़ा, पीसी ज्‍वेलर्स को हुआ 110 करोड़ रुपए का मुनाफा

ऑयल मार्केटिंग कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) का शुद्ध मुनाफा वित्‍त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में 85 प्रतिशत बढ़कर 3,721 करोड़ रुपए रहा।

Abhishek Shrivastava | May 25, 2017 | 5:13 PM
IOC का शुद्ध लाभ 85 प्रतिशत बढ़ा, पीसी ज्‍वेलर्स को हुआ 110 करोड़ रुपए का मुनाफा

नई दिल्‍ली। भारत की सबसे बड़ी ऑयल रिफाइनरी और मार्केटिंग कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) का शुद्ध मुनाफा वित्‍त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में 85 प्रतिशत बढ़कर 3,721 करोड़ रुपए रहा। पिछले वित्‍त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 2,006 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया था।

ऑपरेशन से होने वाली आय भी 24 प्रतिशत बढ़कर 122 करोड़ रुपए रही। मार्च तिमाही में कंपनी का औसत सकल रिफाइनिंग मार्जिन भी सुधरकर 7.77 डॉलर प्रति बैरल रहा, जो कि पिछले वित्‍त वर्ष की समान तिमाही में 5.06 डॉलर प्रति बैरल था। यह भी पढ़ें: खुल गया पेट्रोलपंप पर पेट्रोल और डीजल की चोरी का बड़ा राज, ये हैं बचने के तरीका

पीसी ज्वेलर्स का मुनाफा 40 प्रतिशत बढ़ा 

पीसी ज्वेलर्स का एकल शुद्ध लाभ बीते वित्त वर्ष की मार्च में समाप्त चौथी तिमाही में 40 प्रतिशत बढ़कर 110.05 करोड़ रुपए  पर पहुंच गया। घरेलू बाजार में बिक्री बढ़ने से कंपनी का मुनाफा बढ़ा है। इससे पिछले पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 78.78 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था।

तिमाही के दौरान कंपनी की कुल आय बढ़कर 2,208.91 करोड़ रुपए हो गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 1,884.19 करोड़ रुपए थी। घरेलू बाजार में कंपनी की बिक्री 23 प्रतिशत बढ़कर 1,606.19 करोड़ रुपए पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान तिमाही में 1,310.71 करोड़ रुपए थी।

बॉश का लाभ 10.22 फीसद गिरा 

वाहनों के कल-पुर्जे बनाने वाली कंपनी बॉश लिमिटेड को मार्च में समाप्त हुई 2016-17 की चौथी तिमाही में उच्च कर व्यय के चलते एकल शुद्ध लाभ 10.22 फीसद गिरकर 440.47 करोड़ रुपए रह गया। वित्त वर्ष 2015-16 की इसी तिमाही में 490.6 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया था।

वित्त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में कंपनी की परिचालन से कुल आय उसके पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही के 2,695.43 करोड़ रुपए से 3.14 फीसद बढ़कर 2,780.20 करोड़ रुपए हो गई। कंपनी के निदेशक मंडल ने वर्ष 2016-17 के लिए प्रति इक्विटी शेयर 90 रुपए के अंतिम लाभांश की सिफारिश की है।

Write a comment