1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. भारत बन रहा है कारोबार करने के लिए बेहद आकर्षक स्थान, जेटली ने सिंगापुर में बताई इसकी खूबियां

भारत बन रहा है कारोबार करने के लिए बेहद आकर्षक स्थान, जेटली ने सिंगापुर में बताई इसकी खूबियां

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि डिजिटलीकरण और वित्तीय गतिविधियों तथा कारोबार के संगठित होने के साथ भारत कारोबार के लिए बेहद आकर्षक गंतव्य बन रहा है।

Abhishek Shrivastava | Nov 15, 2017 | 2:43 PM
भारत बन रहा है कारोबार करने के लिए बेहद आकर्षक स्थान, जेटली ने सिंगापुर में बताई इसकी खूबियां

सिंगापुर। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि डिजिटलीकरण और वित्तीय गतिविधियों तथा कारोबार के संगठित होने के साथ भारत कारोबार के लिए बेहद आकर्षक गंतव्य बन रहा है। वित्त मंत्री ने यहां फिनटेक फेस्टिवल में कहा कि मौजूदा डिजिटलीकरण की प्रक्रिया में आधार योजना की प्रमुख भूमिका है। इसके साथ ही वित्तीय समावेशन तथा नोटबंदी के साथ डिजिटल पारिस्थितकी तंत्र में भारी सुधार तथा एक जुलाई, 2017 से माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की शुरुआत ने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

यह भी पढ़ें: वर्ल्‍ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में लगातार दूसरे साल नंबर 1 बना ये देश, इसलिए बिजनेस करना है यहां आसान

जेटली ने कहा कि डिजिटलीकरण तथा कारोबारी गतिविधियों के संगठित होने से भारत अब कारोबार की दृष्टि से बेहद आकर्षक स्थल में बदल रहा है। जेटली ने इस मौके पर विश्व बैंक की कारोबार सुगमता रैंकिंग में उल्लेखनीय सुधार का भी जिक्र किया। 31 अक्‍टूबर को जारी इस रैंकिंग में भारत 30 पायदान की छलांग के साथ 100वें स्थान पर पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें: अब दिलखोलकर मनचाहा खाइए रेस्‍टॉरेंट में खाना, सभी तरह के रेस्‍टॉरेंट में देना होगा आपको अब केवल 5% GST

हालांकि, इसके साथ ही जेटली ने स्वीकार किया कि नोटबंदी और जीएसटी जैसी रणनीतिक पहल के क्रियान्वयन में कुछ लघु अवधि की चुनौतियां आ रही हैं। हालांकि, इसके साथ ही जेटली ने कहा कि लेकिन मेरे मन में इस बात को लेकर जरा भी संदेह नहीं है कि मध्यम से दीर्घावधि में इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को दीर्घावधि का लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़ें: जनवरी में जारी हो सकती है राज्‍यों की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग, 2016 में आंध्र प्रदेश व तेलंगाना थे शीर्ष पर

वित्त मंत्री ने भारतीय अर्थव्यवस्था की बड़ी तस्वीर पेश करते हुए कहा कि यह बेहतर तरीके से आगे बढ़ रही है। औपचारिक तथा अनौपचारिक अर्थव्यवस्था के एकीकरण तथा संरचनात्मक बदलावों के अलावा कर दायरा भी बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पहले जहां बड़े पैमाने पर लेनदेन नकदी से होते थे, अब वे बैंकिंग प्रणाली के जरिये डिजिटल तरीके से हो रहे हैं।