1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. चीन को पछाड़ भारत बना दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट, रोजाना बिके 48 हजार यूनिट

चीन को पछाड़ भारत बना दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट, रोजाना बिके 48 हजार यूनिट

चीन को पछाड़ भारत दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट बन गया है। सियाम) के मुताबिक 2016 के दौरान भारत में 1.77 करोड़ टू-व्हीलर की बिक्री हुई है।

Dharmender Chaudhary | May 7, 2017 | 3:14 PM
चीन को पछाड़ भारत बना दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट, रोजाना बिके 48 हजार यूनिट

नई दिल्ली। चीन को पछाड़ भारत दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट बन गया है। सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबिल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के मुताबिक 2016 के दौरान भारत में 1.77 करोड़ टू-व्हीलर की बिक्री हुई है। पिछले साल लोगों ने औसतन 48,000 टू-व्हीलर रोजाना खरीदे हैं। वहीं चाइना असोसिएशन ऑफ ऑटोमोबिल मैन्युफैक्चरर्स चीन में 1.68 करोड़ टू-व्हीलर की बिक्री हुई है। यह भी पढ़ें: तुअर दाल पर आयात शुल्क बढ़ाकर 20 प्रतिशत करने का प्रस्ताव, किसानों को मिल सकेंगे सही दाम

ग्रामीण इलाकों से मांग बढ़न के कारण टू-व्हीलर की बिक्री में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। इसके साथ ही शहरों में महिलाओं ने जमकर स्कूटर की खरीदारी की है। होंडा की कुल बिक्री में 35 फीसदी महिलाओं का योगदान है। दूसरी ओर टीन में कारों की बिक्री तेजी से बढ़ रही है। इसके कारण चीन में पिछले कुछ वर्षों से टू-व्हीलर का मार्केट घटता जा रहा है। इसके अलावा चीन ने कई बड़े शहरों में पेट्रोल वाले टू-व्हीलर पर प्रतिबंध रखा है। सियाम के डेप्युटी डीजी सुगतो सेन ने कहा, ‘चीन का बाजार कुछ साल पहले 25 मिलियन (ढाई करोड़) या इसके आसपास के सर्वोच्च स्तर को छूने के बाद अब कमजोर पड़ने लगा है।

देश की दूसरी सबसे बड़ी टू-वीइलर कंपनी होंडा मोटरसाइकिल ऐंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) के सीनियर वीपी (सेल्स ऐंड मार्केटिंग) वाईएस गुलेरिया ने कहा, ‘यहां लोगों की आवाजाही की जरूरत बढ़ रही है और हम दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं।’ कर्ज के आसान विकल्पों, नए-नए एवं कमतर ईंधन की जरूरत वाले मॉडलों, बढ़ती आमदनी के साथ-साथ ई-कॉमर्स जैसे नए बिजनस मॉडलों की वजह से भी देश में दोपहिया वाहनों की बिक्री में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।

देश की सबसे बड़ी टू-वीइलर कंपनी हीरो मोटोकॉर्प के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि छोटे-छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ने से दोपहिया वाहनों की मांग बढ़ी है। इंडस्ट्री के अधिकारियों के मुताबिक अगले कुछ सालों तक दोपहिया वाहनों की बाजार यूं ही बढ़ता रहेगा। होंडा के गुलेरिया ने कहा, ‘आने वाले वर्षों में हम करीब-करीब 9-11 प्रतिशत की दर से बढ़ेंगे।’ यह भी पढ़ें: सोना 7 दिन में 825 रुपए हुआ सस्ता, चांदी की कीमतों में 1650 रुपए की भारी गिरावट

Write a comment