1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. नए वीजा नियम बनाते समय अमेरिका भारतीय आईटी कंपनियों के योगदान को ध्यान में रखेगा: सरकार

नए वीजा नियम बनाते समय अमेरिका भारतीय आईटी कंपनियों के योगदान को ध्यान में रखेगा: सरकार

सरकार ने उम्मीद जताई कि अमेरिका में एच-1बी वीजा प्रणाली की समीक्षा के समय भारतीय कंपनियों के योगदान द्विपक्षीय संबंधों को ध्यान में रखा जाएगा।

Dharmender Chaudhary | May 16, 2017 | 8:29 PM
नए वीजा नियम बनाते समय अमेरिका भारतीय आईटी कंपनियों के योगदान को ध्यान में रखेगा: सरकार

नई दिल्ली। सरकार ने उम्मीद जताई कि अमेरिका में एच-1बी वीजा प्रणाली की समीक्षा के समय अमेरिकी व्यापार में भारतीय कंपनियों के योगदान तथा दोनों देशों के सकारात्मक द्विपक्षीय संबंधों को ध्यान में रखा जाएगा। आईटी सचिव अरूणा सुंदरराजन ने कहा कि वीजा नियमों में बदलाव को लेकर चिंताएं अपरिपक्व हैं क्योंकि अमेरिकी प्राशसन ने केवल समीक्षा शुरू की है और भारतीय कंपनियों को ऐसे कामकाजी परमिटों की संख्या पर लगाम लगाने की दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गई है। यह भी पढ़ें: पायलटों को नौकरी छोड़ने के लिए एक साल पहले देना होगा नोटिस, नए नियम को लागू करने की तैयारी में डीजीसीए

उन्होंने यहां ब्राडबैंड इंडिया फोरम कार्यक्रम के अवसर पर कहा, मुझे पूरा भरोसा है कि अमेरिकी सरकार जब भी समीक्षा करेगी वह भारतीय कंपनियों द्वारा किए गए मूल्यवर्धन को ध्यान में रखेगी।  उन्होंने कहा कि कुल अमेरिकी वीजा में से केवल 17 प्रतिशत ही भारतीय कंपनियों को दिया जाता है जबकि भारतीय कंपनियों की सेवाओं का लाभ बड़ी संख्या में अमेरिकी कंपनियों को मिलता है।

सुंदरराजन ने कहा, भारत सरकार पहले ही अमेरिकी अधिकारियों के साथ करीबी तालमेल से काम कर रही है। भारत व अमेरिका के बीच भागीदारी व मूल्य वर्धन के बारे में सभी जानते हैं। हमें उम्मीद है कि प्रणाली में कोई भी बदलाव या समीक्षा उसी आधार पर होगी। इसके साथ ही दोनों देशों के उद्योगों को भी उम्मीद है कि एच-1बी वीजा प्रक्रिया की समीक्षा में दोनों देशों के बीच सकारात्मक रिश्तों को ध्यान में रखा जाएगा। यह भी पढ़ें: Vistara ने शुरू की ‘Mid-Summer’ सेल, सिर्फ 999 रुपए में दे रही है घरेलू रूट पर हवाई टिकट

Write a comment