1. Home
  2. My Profit
  3. Investment
  4. देश के अमीर भी अब लगा रहे म्युचूअल फंड में पैसा, आप भी छोटी रकम पर ऐसे पाएं मोटा मुनाफा

देश के अमीर भी अब लगा रहे म्युचूअल फंड में पैसा, आप भी छोटी रकम पर ऐसे पाएं मोटा मुनाफा

डीमॉनेटाइजेशन के बाद बैंकों में जमा हुई बड़ी रकम पर अच्छे रिटर्न पाने के लिए HNI (हाई नेटवर्थ इन्डीविजुअल) म्युचूअल फंड्स की ओर अग्रसर हुए है।

Ankit Tyagi | May 20, 2017 | 8:06 AM
देश के अमीर भी अब लगा रहे म्युचूअल फंड में पैसा, आप भी छोटी रकम पर ऐसे पाएं मोटा मुनाफा

नई दिल्ली। देश के अमीर इन्वेस्टर्स भी अब म्यूचुअल फंड्स में तेजी से निवेश बढ़ा रहे है। दरअसल डीमॉनेटाइजेशन के बाद बैंकों में जमा हुई बड़ी रकम पर अच्छे रिटर्न पाने के लिए HNI (हाई नेटवर्थ इंडीविजुअल्‍स) म्यूचुअल फंड्स की ओर अग्रसर हुए है। अब सवाल उठता है कि क्या आम निवेशक भी म्यूचुअल फंड में निवेश कर बड़े रिटर्न पा सकते हैं। इस पर एक्सपर्ट्स कहते है कि म्यूचुअल फंड्स छोटे निवेशकों के लिए कम रिस्क में बड़े रिटर्न हासिल करने का अच्छा ऑप्शन है। माना जा रहा है कि अच्छे मानसून और बेहतर इकोनॉमी फंडामेंटल के चलते आने वाले दिनों में घरेलू शेयर बाजार का प्रदर्शन अगले छह महीने में भी अच्छा ही रहेगा। लिहाजा निवेशक एसआईपी के जरिए अच्छे रिटर्न हासिल कर सकते है।

देश के रईस भी लगा रहे है म्युचूअल फंड में पैसा

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI)  की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक देश के रईस यानी हाई नेटवर्थ इंडीविजुअल्स (HNI) के  म्यूचुअल फंड फोलियो की संख्या मार्च 2017 तिमाही में 39 फीसदी बढ़ी है। नवंबर 2016 में डीमॉनेटाइजेशन शुरू होने के बाद HNI ने तेजी से म्यूचुअल फंड्स में निवेश बढ़ाया है। यह भी पढ़ें: #ModiGoverment3Saal: मोदी राज में निफ्टी छुएगा 10 हजार का स्तर, इन चुनिंदा शेयरों में बनेगा पैसा

फिस्कल ईयर 2017 में म्यूचुअल फंड्स में क्यूमुलेटिव नेट इनफ्लो कुल 99,775 करोड़ रुपए का रहा है। नवंबर 2016 में जब डीमॉनेटाइजेशन का एेलान हुआ, तब म्यूचुअल फंड्स में नेट इनफ्लो 36,021 करोड़ रुपए था। इसके बाद के तीन महीनों यानी फरवरी 2017 में 2.6 गुना बढ़कर 95,013 करोड़ रुपए हो गया।

क्यों अमीरों ने बढ़ाया निवेश

एक्सपर्ट्स के मुताबिक अमीर निवेशकों का इंटरेस्ट म्यूचुअल फंड में बढ़ने की कई वजह हैं। सरकार की तरफ से बड़े करेंसी नोट का चलन बंद करा दिए जाने के बाद उन्होंने अपने पास मौजूद कैश बैंकों में जमा करा दिया। इसके बाद उनके पास आकर्षक निवेश के सीमित विकल्प रह गए लेकिन, महंगाई के चलते बैंक डिपॉजिट पर मिलने वाला रिटर्न पर्याप्त नहीं रह गया है। यहां तक कि गोल्ड और रियल एस्टेट भी आकर्षक नहीं रह गया है क्योंकि निकट भविष्य में उनके दाम में तेजी आने की संभावना नहीं है।#ModiGoverment3Saal: मोदी के कार्यकाल में निवेशक हुए मालामाल, ऐसे 5 हजार रुपए लगाकर कमाए 3 लाख

छोटे निवेश पर आप भी पा सकते है बड़ा रिटर्न

बजाज कैपिटल के सीईओ अनिल चोपड़ा कहते है कि एसआईपी यानि सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान जो नियमित निवेश के लिए सबसे बढ़िया विकल्प है, इससे पावर ऑफ कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है। एसआईपी म्यूचुअल फंड में पैसे लगाने का सबसे आसान तरीका है। एसआईपी से जुड़े निवेश पर कोई एंट्री और एग्जिट लोड नहीं लगता है। लंबी अवधि में पैसे जोड़ने का सबसे अच्छा विकल्प एसआईपी है। वित्तीय लक्ष्य के हिसाब से एसआईपी करें। इससे पोर्टफोलियो के डाइवर्सिफिकेशन में मदद मिलती है। नए निवेशकों को एसआईपी से म्यूचुअल फंड में निवेश की शुरुआत करने की चाहिए।#ModiGoverment3Saal: सोने से रूठी ‘लक्ष्मी’, जुलाई तक हो सकता है 1100 रुपए सस्ता

इन्वेस्टममेंट के समय हमेशा रखें ध्यान

इन्वेस्टर्स को ध्यान रखना चाहिए कि वो मार्केट की गिरावट पर एसआईपी बंद नहीं करें। गिरावट के समय कम भाव में ज्यादा यूनिट मिलती है। लंबी अवधि के लिए एसआईपी में बने रहने में ही फायदा है। एसआईपी को अपने को वित्तीय लक्ष्य के साथ जोड़ें। बैंक खाते के बजाय लिक्विड फंड में एसआईपी के लिए पैसे रखें। आमदनी बढ़ने पर निवेश की राशि जरूर बढ़ाएं और सिस्टमैटिक ट्रांसफर या विदड्रॉअल प्लान शुरू करें।एक साल में बैंकिंग म्यूचुअल फंड्स में मिले 60% के बड़े रिटर्न, आपके पास भी है मौका

अब क्यों है निवेश का मौका

प्रभुदास लीलाधर के ज्वाइंट एमडी, दिलीप भट्ट का कहना है कि बाजार में बुल रन (तेजी का दौर) जारी है। ऐसे में थोड़ा करेक्शन आए तो घबराने की जरूरत नहीं है। मौजूदा समय में बेहतर लिक्विडिटी घरेलू बाजार को सहारा देने का काम कर रही है। आगे तीसरी या चौथी तिमाही तक कंपनियों के नतीजों में भी अच्छा सुधार दिखने लगेगा। नतीजों में सुधार से पहले काफी सारे आर्थिक सुधार की गुंजाइश है। इस तरह आने वाले दिनों में बाजार में और भी बेहतर स्थिति के संकेत मिल रहे हैं।

इन म्यूचुअल फंड्स में इन्वेस्टमेंट का मौका

1.रिलायंस टॉप 200 फंड
इस फंड का कुल एयूएम 846 करोड़ रुपए है। इसमें 33 बड़ी कंपनियों के स्टॉक्स शामिल है। फंड की बड़ी होल्डिंग्स में एचडीएफसी बैंक, एसबीआई और एलएंडटी है। इस फंड पर ज्यादातर जानकर पॉजिटिव अप्रोच रखते है, क्योंकि फंड के पोर्टफोलियो में देश की 10 सबसे बड़ी कंपनियों के स्टॉक्स शामिल है। लिहाजा इकोनॉमी में रिकवरी के साथ-साथ फंड्स में भी तेज ग्रोथ देखने को मिलेगी।

2. बिरला सन लाइफ टॉप 100 फंड

एसएमसी इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स की इस फंड को अपने पोर्टफोलियो में निवेश की सलाह है। एक साल में फंड ने खास अच्छा प्रदर्शन किया है। फंड का कुल एयूएम 2803 करोड़ रुपए है। फंड के पोर्टफोलियो में कुल 73 स्टॉक्स है। इसमें खासकर एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस है। तीन साल में 16 फीसदी का रिटर्न दिया है। एक्सपर्ट कहते हैं कि लार्ज कैप और मिडकैप स्टॉक्स पर फंड का फोकस है। स्टॉक्स की अधिक वैल्यूएशन पर होने पर फंड मैनजर तेजी से स्टॉक्स को बदलते है। यानी की महंगे स्टॉक को बेचकर अच्छे फंडामेंटल वाले स्टॉक्स को निचले स्तर पर खरीदते है।म्यूचुअल फंड्स के इन फेवरेट शेयरों ने दिया 900% तक का रिटर्न, आपके पास भी है मौका

3.डीएसपी फोकस 25 फंड

आनंद राठी फाइनेंशियल सर्विसेज के फिरोज अजीज कहते है कि इस फंड में इन्वेस्ट किया जा सकता है। ये फंड बेस्ट लार्ज कैप स्टॉक्स को अपने पोर्टफोलियो में रखता है। इसीलिए माना जाता है कि जब भी मार्केट में तेजी आती है, तो सबसे पहले लार्ज कैप स्टॉक्स चलते है। लॉन्ग टर्म इन्वेस्टर्स इस फंड को अपने पोर्टफोलियो में शामिल कर सकते है। फंड का एयूएम 2426 करोड़ रुपए है और उनके पोर्टफोलियो में 26 स्टॉक्स शामिल है। फंड के पास एचडीएफसी बैंक और इन्फोसिस है।

Write a comment