1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. हल्दिया पेट्रोकेमिकल्स को पेट्रोल की रिटेल बिक्री की मिली मंजूरी, खुलेंगे 100 पेट्रोल पंप

हल्दिया पेट्रोकेमिकल्स को पेट्रोल की रिटेल बिक्री की मिली मंजूरी, खुलेंगे 100 पेट्रोल पंप

Sachin Chaturvedi | Oct 6, 2016 | 1:40 PM
हल्दिया पेट्रोकेमिकल्स को पेट्रोल की रिटेल बिक्री की मिली मंजूरी, खुलेंगे 100 पेट्रोल पंप
SHOW FULL IMAGE

कोलकाता। हल्दिया पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एचपीएल) को सरकार से पेट्रोल पंप खोलने की मंजूरी मिल गई है। यह देश में सातवीं पेट्रोलियम कंपनी के तौर पर काम करेगी। सूत्रो के मुताबिक कंपनी की योजना दो चरणों में करीब 100 पेट्रोल पंप स्थापित करने की है। कंपनी इस पेट्रोललीयम सेक्टर में 2,000 करोड़ रुपए निवेश करेगी। फिलहाल देश में 6 पेट्रोलियम कंपनियां काम कर रही हैं। इनमें सरकारी क्षेत्र की इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम के साथ ही निजी क्षेत्र की रिलांयस, एस्सार और शेल शामिल हैं।

यभी पढ़ें: Essar Oil 12 महीने में खोलेगी 2600 नए पेट्रोल पंप, छोटे शहरों और हाई-वे पर होगा फोकस

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय में संयुक्त सचिव आशुतोष जिंदल ने कहा, एचपीएल को स्वयं पेट्रोल (मोटर स्प्रिट) की खुदरा बिक्री करने की अनुमति दे दी गई है जिसे वह अभी तक तेल विपणन कंपनियों को बेच रहे थे।

यहां क्लिक कर लें पूरी जानकारी

कंपनी की ये है योजना

  • पहले चरण में कंपनी चार जिलों और दूसरे चरण में अन्य छह जिलों में इसकी बिक्री करेगी।
  • यह सभी जिले पश्चिम बंगाल में हैं।
  • एचपीएल को अब एक तेल कंपनी के तौर पर मान्यता दी गई है।
  • मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि कंपनी की योजना दो चरणों में करीब 100 पेट्रोल पंप स्थापित करने की है।
  • पहले मिदनापुर पूर्व, मिदनापुर पश्चिम, बांकुड़ा और पुरूलिया में कंपनी अपनी बिक्री शुरू करेगी।
  • इसके बाद हावड़ा, हुगली, नादिया, बर्दवान, दक्षिण और उत्तरी 24 परगना जिलों में इसका विस्तार करेगी।

ऐसे करें ऑनलाइन LPG सिलेंडर बुक

यभी पढ़ें: Dealer Commission: पेट्रोल के दाम 14 पैसे लीटर बढ़े, डीजल की कीमतों 10 पैसे की बढ़ोतरी

क्या करती है कंपनी

  • टीसीजी द्वारा प्रवर्तित एचपीएल का नेतृत्व करते हैं पुरूनेंदु चटर्जी।
  • अपने पश्चिम बंगाल के संयंत्र में पेट्रोल को सह-उत्पाद के तौर पर उत्पादित करती है।
  • कंपनी अभी प्रति माह ढाई करोड़ लीटर पेट्रोल उत्पादित करती है जो यूरो-चार मानक का है।