1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. टीवी, रेफ्रि‍जरेटर और एसी हो जाएंगे महंगे, उपभोक्‍ताओं को चुकानी होगी 4-5% ज्‍यादा कीमत

टीवी, रेफ्रि‍जरेटर और एसी हो जाएंगे महंगे, उपभोक्‍ताओं को चुकानी होगी 4-5% ज्‍यादा कीमत

टेलीवीजन, रेफ्रि‍जरेटर और एयर-कंडीशनर के दाम बढ़ने वाले हैं। जीएसटी में कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और ड्यूरेबल्‍स को 28 प्रतिशत टैक्‍स स्‍लैब में रखा है।

Abhishek Shrivastava | May 19, 2017 | 6:40 PM
टीवी, रेफ्रि‍जरेटर और एसी हो जाएंगे महंगे, उपभोक्‍ताओं को चुकानी होगी 4-5% ज्‍यादा कीमत

नई दिल्‍ली। 1 जुलाई से टेलीवीजन, रेफ्रि‍जरेटर और एयर-कंडीशनर के दाम 4 से 5 प्रतिशत बढ़ जाएंगे। जीएसटी काउंसिल ने कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और ड्यूरेबल्‍स को 28 प्रतिशत टैक्‍स स्‍लैब में रखा है, जबकि वर्तमान में इस पर लगभग 23 प्रतिशत टैक्‍स लगता है।

कंपनियों का कहना है कि अतिरिक्‍त टैक्‍स बोझ को उपभोक्‍ताओं के ऊपर डाला जाएगा, जिससे मांग पर कुछ अस्‍थायी असर पड़ सकता है। पैनासोनिक इंडिया के अध्‍यक्ष मनीष शर्मा ने कह कि 4-5 प्रतिशत दाम बढ़ने से जुलाई-अगस्‍त में बिक्री पर असर पड़ेगा लेकिन हमें उम्‍मीद है कि त्‍योहारी मौसम में यह असर खत्‍म हो जाएगा और मांग दोबारा बढ़ेगी। यह भी पढ़ें:  1 जुलाई से मूवी, कैब, होटल रूम होंगे सस्‍ते, मोबाइल पर बात करने के लिए देना होगा ज्‍यादा टैक्‍स

वीडियोकॉन के चीफ ऑपरेटिंग ऑफि‍सर सीएम सिंह ने कहा कि हालांकि कुछ ग्राहक जुलाई से पहले ही खरीदारी कर सकते हैं, हालांकि इससे जीएसटी लागू होने के बाद कारोबार को होने वाले नुकसान की भरपाई होने की संभावना नहीं है। वर्तमान में कंज्‍यूमर ड्यूरेबल्‍स पर 12.5 प्रतिशत से लेकर 14.5 प्रतिशत तक वैट लगता है, जो कि प्रत्‍येक राज्‍य में अलग-अलग है। इसके अलावा इस पर सेस सहित 8.6 प्रतिशत एक्‍साइज ड्यूटी लगती है। इंडस्‍ट्री जीएसटी में इसे 18 प्रतिशत टैक्‍स स्‍लैब में रखने की मांग कर रही थी। यह भी पढ़ें: 1205 आइटम के लिए तय हुआ GST, जानिए किस चीज पर लगेगा अब कितना टैक्‍स

तस्‍वीरों में देखिए किस पर कितना देना होगा टैक्‍स और सेस

फ्रांस की छोटे एप्‍लाइंसेस बनाने वाली ग्रुप एसईबी इंडिया के सीईओ सुनील वाधवा ने कहा कि इलेक्ट्रिक आयरन, जूसर और मिक्‍सर-ग्राइंडर जैसे उत्‍पादों पर 28 प्रतिशत टैक्‍स दुनिया में सबसे ज्‍यादा है। उन्‍होंने कहा कि एप्‍लाइंसेस का एक बहुत बड़े हिस्‍से का निर्माण एक्‍साइज फ्री जोन में किया जाता है। अभी, हमें इसका कोई अंदाजा नहीं है कि जीएसटी के बाद मौजूदा एक्‍साइज ड्यूटी छूट का लाभ कैसे मिलेगा।

Write a comment