1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. अब नहीं फटेगा LPG सिलेंडर और ना ही होगी गैस की चोरी, सरकार लाएगी ट्रांसपेरेंट सिलेंडर

अब नहीं फटेगा LPG सिलेंडर और ना ही होगी गैस की चोरी, सरकार लाएगी ट्रांसपेरेंट सिलेंडर

सरकार इस साल ट्रांसपेरेंट सिलेंडर लॉन्च करने जा रही है। इसमें लीकेज होने, आग लगने या फटने की समस्या नहीं होगी और ना ही गैस की चोरी होगी।

Dharmender Chaudhary | Oct 5, 2016 | 9:25 PM
अब नहीं फटेगा LPG सिलेंडर और ना ही होगी गैस की चोरी, सरकार लाएगी ट्रांसपेरेंट सिलेंडर

नई दिल्ली। सरकार घरेलू गैस चोरी को रोकने के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही है। सरकार के इस कदम के बाद एलपीजी सिलेंडर से गैस की चोरी करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाएगा। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय इस साल ट्रांसपेरेंट सिलेंडर लॉन्च करने जा रही है। इसमें लीकेज होने, आग लगने या फटने की समस्या नहीं होगी और ना ही डीलर्स गैस की चोरी कर सकेंगे। सिलेंडर के साथ ही सरकार पुरानी सील की जगह नई सील लाएगी, जिससे कोई सिलेंडर में से गैस निकालेगा तो पता चल जाएगा।

यह भी पढ़ें: Good News! रेलवे लॉन्च करेगा नया एप, टिकट बुकिंग से लेकर खाने तक का दे सकेंगे ऑर्डर

नहीं होगी गैस की चोरी

  • एचसीपीएल एवं बीपीसीएल गैस कंपनी ने कुछ जगहों पर नई सील लगे सिलेंडर की आपूर्ति शुरू कर दी है।
  • टेंपर्ड प्रूफ सील में खास तरीके के प्लास्टिक का उपयोग किया जाएगा। सील पर विशेष प्रकार के होलोग्राम की पट्टी लगाई जाएगी।
  • सिलेंडर के पूरे नोजल को कवर करती है। यह एक बार सिलेंडर पर लग गई तो पूरी तरह फिट हो जाती है।
  • खोलने-निकालने की कोशिश करने पर यह सील टूट जाती है, जिसे वापस नहीं लगाया जा सकता है।
  • सालभर में पारदर्शी सिलेंडर उपलब्ध कराएगा। इसके बाद मंत्रालय सभी गैस एजेंसियों द्वारा सप्लाई किए जाने वाले सिलेंडर की सील बदलेगा।
  • इससे गैस की रीफिलिंग, कालाबजारी पर पूर्णत: रोक लगाया जा सकता है।
  • पारदर्शी रसोई गैस सिलेंडर की सिक्युरिटी करीब 2400-2450 रुपए होगी।
  • पुराने उपभोक्ता 950 से 1000 रुपए अतिरिक्त देकर पुराने सिलेंडर को बदलकर पारदर्शी सिलेंडर ले सकेंगे।

तस्‍वीरों में देखिए कैसे करें पहल के लिए रजिस्‍ट्रेशन

यह भी पढ़ें: LPG सब्सिडी पाने के लिए आधार नंबर हुआ अनिवार्य, 2.5 करोड़ उपभोक्‍ताओं को होगा नुकसान

नई सील को तोड़कर वापस लगाना नामुमकिन

  • पुरानी सील की जगह नई की प्लास्टिक ऐसी, जिसे निकालने पर चटक जाएगी।
  • अभी पुरानी सील की प्लास्टिक इतनी पतली नरम होती है कि अगर इस पर गरम पानी डाला जाए तो यह फैल जाती है।
  • जिसे निकालकर अवैध रीफिलिंग कर लेते हैं, जिससे उपभोक्ता को पता नहीं लग पाता है कि सिलेंडर से गैस निकली है या नहीं।
  • नई सील लगाने के बाद अगर सील से जरा भी छेड़छाड़ की गई, तो वह चटक जाएगी और दुबारा नहीं जुड़ेगी।
  • सूचना मिली है लेकिन गाइड लाइन नहीं मिला
Write a comment