1. Home
  2. My Profit
  3. Gold
  4. Gold की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी, 50 रुपए सस्ती हुई चांदी

Gold की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी, 50 रुपए सस्ती हुई चांदी

Dharmender Chaudhary | Sep 30, 2016 | 8:32 PM
Gold की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी, 50 रुपए सस्ती हुई चांदी
SHOW FULL IMAGE

Key Highlights

  • सोने की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी
  • 175 रुपए की उछाल के साथ 31525 रुपए पर हुआ बंद
  • चांदी 50 रुपए फिसल कर 45,500 रुपए प्रति किलो रही 

नई दिल्ली। घरेलू हाजिर बाजार में ज्वैलर्स बढ़ी हुई खरीदारी और मजबूत वैश्विक संकेतों के कारण सोने (Gold ) की कीमतों में तेजी दर्ज की गई। दिल्ली के सर्राफा बाजार में सोने के भाव 175 रुपए की तेजी के साथ 31,525 रुपए प्रति 10 ग्राम हो गए। वहीं कमजोर मांग के चलते चांदी की कीमत 50 रुपए की गिरावट के साथ 45,500 रुपए प्रति किलो रह गई।

यह भी पढ़ें: WGC: सोने से लोगों का मोह हुआ भंग, 2016 में मांग गिरकर 750 टन रहने की संभावना

बाजार सूत्रों ने कहा कि डॉयचे बैंक के वित्तीय स्थिति पर निवेशकों की चिंता को लेकर शेयरों की बिकवाली से सोने की मांग बढ़ गई। इससे वैश्विक बाजारों में सोने की कीमतों में तेजी आई। इस परिस्थिति में यहां स्थानीय कारोबारी धारणा भी सकारात्मक हो गई। उन्होंने कहा कि सिंगापुर में सोने का भाव 0.4 प्रतिशत की तेजी के साथ 1,325.45 डॉलर प्रति पर कारोबार करता नजर आया। सूत्रों ने कहा कि इसके अलावा घरेलू हाजिर बाजार में ज्वैलर्स की खरीदारी बढ़ने के कारण तेजी दर्ज की गई।

एक नजर सोने के कारोबार पर

दिल्ली में  99.9 और 99.5 शुद्धता वाले सोने की कीमतों में 175 रुपए की तेजी।

तेजी के साथ भाव क्रमश: 31,525 रुपए और 31,375 रुपए प्रति दस ग्राम पर बंद हुए।

गुरुवार के कारोबार में इस सोने की कीमतों में 50 रुपए की तेजी आई थी।

गिन्नी के भाव बिना किसी बदलाव के 24,500 रूपए प्रति आठ ग्राम पर स्थिर।

यह भी पढ़ें: #GoldShine: दिवाली पर और चमकेगा गोल्ड, कीमत पहुंच सकती है 33 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम के पार

चांदी की कीमतों में 50 रुपए की गिरावट

  • चांदी तैयार के भाव 50 रुपए की गिरावट के साथ 45,500 रुपए प्रति किग्रा पर बंद हुए।
  • चांदी साप्ताहिक डिलीवरी के भाव 145 रुपए की गिरावट के साथ 45,725 रुपए किलो पर बंद हुए।
  • चांदी सिक्का लिवाल 77,000 रुपए और बिकवाल 78,000 रुपए प्रति सैंकड़ा के पूर्वस्तर पर ही बंद हुआ।