1. Home
  2. My Profit
  3. News To Use
  4. नई कार खरीदने से पहले रखें इन पांच बातों का ख्‍याल, नहीं होगी पैसों के लिए टेंशन

नई कार खरीदने से पहले रखें इन पांच बातों का ख्‍याल, नहीं होगी पैसों के लिए टेंशन

कार के लिए खर्च होने वाली कुल राशि में डाउन पेमेंट + एप्रूव्ड लोन अमाउंट + लोन लेने के प्रोसेस में खर्च होने वाली राशि + ब्याज की राशि शामिल होती है।

Sachin Chaturvedi | May 11, 2017 | 4:03 PM
नई कार खरीदने से पहले रखें इन पांच बातों का ख्‍याल, नहीं होगी पैसों के लिए टेंशन

नई दिल्‍ली। नई चमचमाती कारों को देखते ही हम उसे खरीदने की तैयारी शुरू कर देते हैं। लेकिन कई बार कार खरीदने का वास्‍तविक खर्च हमारी सोच से कहीं ज्‍यादा होता है। वहीं यदि आप किसी तरह इस खर्च को वहन कर लेते हैं। तब भी आगे चलकर आपको आर्थिक परेशानी से जूझना पड़ता है।

नई कार खरीदते वक्‍त दो बातें निश्चित तौर पर आपके लिए जानना बेहद जरूरी हैं उनमें पहली यह कि कितने रुपए तक की कार आपके बजट में है, यानि आपकी मौजूदा वित्तीय स्थिति को देखते हुए आपको अपनी नई कार के लिए कितने रुपए खर्च करने चाहिए। दूसरा यह कि अगर आप इस कार के लिए लोन ले रहे हैं तो आपको कुल कितने पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं। ये भी पढ़ें: बिना एयरबैग वाली रेनो डस्टर ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्‍ट में हुई फेल, सुरक्षा के लिहाज से मिला शून्य स्टार

अगर हम लोन की स्थिति को ही ले लें तो इसमें कार के लिए खर्च होने वाली कुल राशि में डाउन पेमेंट + बैंक या फाइनेंस कंपनी की ओर से एप्रूव्ड लोन अमाउंट + लोन लेने के प्रोसेस में खर्च होने वाली राशि + ब्याज की राशि शामिल होती है।

नई कार का बजट तय करते समय इन पांच बातों का रखें ख्याल

  1. कार की कुल रकम – जो कार खरीदने का मन आपने बनाया है सबसे पहले उसकी कुल कीमत पता करें। ध्यान दें अखबार, टीवी या होर्डिंग पर लगे इश्‍तेहार में अक्सर कार का एक्सशो रूम प्राइस ही दिया जाता है। कार की कुल रकम में एक्स शोरूम प्राइस के अलावा भी तमाम चीजें शामिल होती हैं। मसलन सेल्स टैक्स, रजिस्ट्रेशन फीस, इंश्योरेंस आदि। साथ ही अगर आप कार के लिए कुछ खास साम्रगी (ऐक्सेसरीज़) खरीद रहे हैं तो उसके लिए भी आपको अलग से पैसे देने होते हैं। यह भी पढ़ें: अवमानना मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गृह मंत्रालय को 10 जुलाई तक माल्या को भारत लाने का दिया आदेश
  2. मासिक ईएमआई का रखें ख्याल – अगर आप अपनी कार के लिए लोन ले रहे हैं तो हर महीने आप कितनी ईएमआई आसानी से दे सकते हैं इसका ख्याल रखें। लोन की मियाद बढ़ाने से मासिक किश्त कम हो जाती है। आपकी ईएमआई में मूलधन के साथ साथ ब्याज का भुगतान भी शामिल होता है। ऐसे में अगर आप कार खरीदने के लिए ब्याज दरों के नीचे आने का इंतजार कर सकते हैं तो या तो ज्यादा महंगी कार खरीद सकते हैं या फिर ब्याज भुगतान की राशि को कम कर सकते हैं। ब्याज दरें कम होने की उम्मीद है या नहीं इसकी सलाह आप अपने वित्तीय सलाहकार से ले सकते हैं।
  3. डाउन पेमेंट – ज्यादातर कार उपभोक्ता लोन लेकर कार खरीदते हैं। कार खरीदते समय इस बात का ध्यान जरूर रखें कि आप जितना ज्यादा से ज्यादा डाउन पेमेंट कर सकते हैं कर दीजिए क्योंकि इससे जहां एक ओर आपकी मासिक ईएमआई घट जाएगी, वहीं दूसरी ओर ब्याज में आपको कम पैसे खर्च करने होंगे।
  4. 10% – 20% नियम– इस नियम के मुताबिक किसी भी व्यक्ति को अपनी मासिक आमदनी का 10 से 20 फीसदी पैसा यातायात के लिएखर्च करना चाहिए। मतलब अगर आपकी सैलरी 25000 रुपए महीना है तो आपको ज्यादा से ज्यादा 5000 रुपए अपने वाहन या यातायात के लिए खर्च करने चाहिए। ऐसे में ध्यान रखें अगर आप कार खरीद रहे हैं तो मासिक ईएमआई और कार पर मासिक खर्च इसके ऊपर न निकले।
  5. 36% का नियम – अगर आपके ऊपर पहले से ही कुछ लोन चल रहे हैं और आप यह नहीं समझ पा रहे कि कार के लिए कितना और कितने समय के लिए लोन लिया जाए। तो आसानी से 36% के नियम को फॉलो करें। इस नियम के मुताबिक आपके कुल कर्ज के लिए दिया जाने वाला मासिक भुगतान आपकी कुल मासिक आमदनी के 36 फीसदी से ज्यादा नहीं होना चाहिए। उदाहरण के लिए अगर आपकी कुल मासिक आमदनी 25000 रुपए है तो आपकी कुल ईएमआई 9000 रुपए से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
Write a comment