1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. कोलकाता में शुरू होगी देश की पहली अंडरवॉटर मेट्रो, हुगली नदी के नीचे से गुजरेगी टनल

कोलकाता में शुरू होगी देश की पहली अंडरवॉटर मेट्रो, हुगली नदी के नीचे से गुजरेगी टनल

देश की सबसे पुरानी कोलकाता मेट्रो अब हुगली नदी के नीचे अंडरवॉटर टनल(सुरंग) के माध्‍यम से गुजरेगी। इस दोहरी टनल की लंबाई 520 मीटर है।

Sachin Chaturvedi | May 29, 2017 | 4:31 PM
कोलकाता में शुरू होगी देश की पहली अंडरवॉटर मेट्रो, हुगली नदी के नीचे से गुजरेगी टनल

नई दिल्‍ली। पूर्वी भारत का प्रमुख महानगर कोलकाता अब जल्‍द ही न्‍यूयॉर्क, लंदन और सिंगापुर जैसे शहरों की कतार में शामिल होने जा रहा है। देश की सबसे पुरानी कोलकाता मेट्रो अब हुगली नदी के नीचे अंडरवाटर टनल(सुरंग) के माध्‍यम से गुजरेगी। इस दोहरी टनल की लंबाई 520 मीटर है। इस अंडरवाटर टनल का निर्माण जापान के सॉफ्ट बैंक की मदद से भारतीय रेलवे द्वारा किया जा रहा है। इस टनल का निर्माण होने से शहर का व्‍यस्‍ततमत हावड़ा स्‍टेशन मेट्रो के माध्‍यम से उपनगरीय इलाके सॉल्‍टलेक, सियालदाह आदि से जुड़ जाएंगे।

इस प्रोजेक्‍ट से जुड़े अधिकारी के मुताबिक एक अखबार को बताया कि कोलकाता में मेट्रो के दूसरे चरण पर काम चल रहा है। ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रॉजेक्ट की लंबाई 16.6 किलोमीटर की है। इसके लिए नदी के नीचे बना यह टनल बहुत अहम है। इस टनल की लंबाई 520 मीटर है। यह दोहरी टनल नदी की सतह के 30 मीटर नीचे से होकर गुजरेगी। हावड़ा और महाकरन मेट्रो स्टेशन के यात्री 1 मिनट के लिए नदी के नीचे से गुजरेंगे। टनल में मेट्रो की स्पीड 80 किमी प्रति घंटा होगी। यह भी पढ़ें: टेक्नो सैट कॉम दिल्ली मेट्रो में Wi-Fi सेवा उपलब्ध कराएगी

कुछ ऐसी होगी गुड़गांव में प्रस्‍तावित मेट्रीनो सर्विस

ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रॉजेक्ट पर कुल 9,000 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। वहीं इस अंडरवाटर टनल के निर्माण पर 60 करोड़ रुपये का खर्च आया है। टनल का काम पिछले साल अप्रैल में शुरू हुआ था और जल्द ही पूरा होने जा रहा है। हुगली सुरंग पूरा होने से नदी के पश्चिमी ओर स्थित हावड़ा स्टेशन पूर्व में स्थित महाकरन, सियालदह, फूल बागान, साल्टलेक स्टेडियम, बंगाल केमिकल्स, सिटी सेंटर, सेंट्रल पार्क, करुणामई और साल्ट लेक सेक्टर-5 स्टेशनों से जुड़ जाएंगे। यह भी पढ़ें: गुड़गांव में जल्‍द शुरू होगी पॉड टैक्‍सी सर्विस ‘मेट्रीनो’, जमीन से ऊपर होगा आरामदायक सफर

Write a comment