1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. डिजिटलीकरण और जीएसटी के बाद डीजीएफटी के लिए परीक्षा की घड़ी, नए स्वरूप में ढालने की संभावना

डिजिटलीकरण और जीएसटी के बाद डीजीएफटी के लिए परीक्षा की घड़ी, नए स्वरूप में ढालने की संभावना

डीजीएफटी अपने आप को नए स्वरूप में ढालने की संभावना पर गौर कर रहा है। क्योंकि उसका बहुत सारा वर्तमान कामकाज डिजिटलीकरण के कारण ऑनलाइन होने जा रहा है।

Dharmender Chaudhary | Apr 30, 2017 | 1:35 PM
डिजिटलीकरण और जीएसटी के बाद डीजीएफटी के लिए परीक्षा की घड़ी, नए स्वरूप में ढालने की संभावना

नई दिल्ली। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) अपने आप को नए स्वरूप में ढालने की संभावना पर गौर कर रहा है। क्योंकि उसका बहुत सारा वर्तमान कामकाज डिजिटलीकरण के कारण ऑनलाइन होने जा रहा है। एक जुलाई से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने की संभावना है। यह भी पढ़ें: रियल एस्‍टेट कानून RERA कल से होगा लागू, अब तक सिर्फ 13 राज्‍यों ने बनाए कानून

वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला डीजीएफटी निर्यात को सुगम बनाता है। इसके अलावा नियामक देश से वस्तुओं के निर्यात की योजना, अग्रिम अधिकरण एवं पूंजीगत वस्तु निर्यात संवर्धन जैसे कार्यक्रमों का संचालन करता है। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमारा प्रयास यह सुनिश्चित करना है कि कैसे हम घरेलू निर्यातकों को सहयोग जारी रखने के लिए अपने मानव संसाधनों का महत्तम उपयोग करें।

डिजिटलीकरण पर बल दिए जाने के साथ ही हमारी ज्यादातर गतिविधियां जैसे आयात-निर्यात कोड नंबर प्रदान करना आदि अब ऑनलाइन संभाले जा रही हैं। नया अप्रत्यक्ष कर ढांचा प्रभाव में आने के बाद सभी शेष काम डिजिटल माध्यम से किया जाएगा। यह भी पढ़ें: सोने की कीमतों में 450 रुपए की गिरावट, चांदी हुई 1,475 रुपए सस्ती

दक्षिण अफ्रीका को 2017 में भारत से 1,00,000 से अधिक पर्यटकों के आने की आशा

दक्षिण अफ्रीका को इस साल भारत से 1,04,000 से अधिक पर्यटकों के आगमन की उम्मीद है। उसने भारतीय उपमहाद्वीप के लोगों के लिए विशेष पेशकश की है। दक्षिण अफ्रीका पर्यटन की भारत प्रबंधक हन्नेली स्लैबर ने कहा, हमें भारत से आने वाले पर्यटकों की संख्या में लगातार वृद्धि नजर आ रही है। इस वृद्धि को देखते हुए हम 2017 में 1,04,000 भारतीय पर्यटको की मेजबानी करने के लिए आशान्वित हैं।