1. Home
  2. My Profit
  3. Investment
  4. सरकारी कंपनियों के CPSE ETF में निवेश का आज है आखिरी मौका, जानिए इश्यू से जुड़ी ये 6 महत्वपूर्ण बातें

सरकारी कंपनियों के CPSE ETF में निवेश का आज है आखिरी मौका, जानिए इश्यू से जुड़ी ये 6 महत्वपूर्ण बातें

देश की 10 सबसे बड़ी सरकारी कंपनियों के CPSE ETF में निवेश का आज आखिरी मौका है। पहले दो दिन में इस इश्यू को शानदार रिस्पॉन्स मिला है।

Ankit Tyagi | Jan 20, 2017 | 7:24 AM
सरकारी कंपनियों के CPSE ETF में निवेश का आज है आखिरी मौका, जानिए इश्यू से जुड़ी ये 6 महत्वपूर्ण बातें

नई दिल्ली। देश की 10 सबसे बड़ी सरकारी कंपनियों के ETF में निवेश का आज आखिरी मौका है। पहले दो दिन में इस इश्यू को शानदार रिस्पॉन्स मिला है। आपकों बता दें कि इससे पहले सरकारी ईटीएफ का प्रदर्शन अच्छा रहा था और पहले CPSE ETF से आम निवेशकों को 17.2 फीसदी का रिटर्न मिला था। अब सवाल उठता है कि क्यों इस इश्यू में निवेश करना चाहिए और क्या इसका प्रोसेस है। इन्हीं सब सवालों के जवाब हमने एक्सपर्ट्स से पूछे है।

यह भी पढ़ें : सरकारी जनरल इंश्‍योरेंस कंपनियां भी शेयर बाजार में होंगी लिस्‍ट, कैबिनेट ने दी मंजूरी

(1) क्या है CPSE ETF

  • CPSE ETF एक प्रकार की म्यूचुअल फंड योजना है।
  • इसमें 10 सार्वजनिक उपक्रमों के शेयरों को शामिल किया जाता है।
  • इनमें -ओएनजीसी, कोल इंडिया, आईओसी, गेल इंडिया, ऑयल इंडिया, पीएफसी, भारत इलेक्ट्रानिक्स, आरईसी, इंजीनियर्स इंडिया और कंटेनर कार्पोरेशन ऑफ इंडिया शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : नीति आयोग ने बनाई नई योजना, अब राज्यों को डिजिटल कामकाज के आधार पर मिलेगी रैंकिंग

(2) आम निवेशक कैसे कर सकते है निवेश

  • एक्सपर्ट्स कहते है कि निवेशकों को ध्यान रखना होगा कि CPSE ईटीएफ में निवेश के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है।
  • इसमें रिटेल निवेश की सीमा 5 हजार रुपए से 2 लाख रुपए तक है।
  • इस निवेश के लिए चेक, डेबिट कार्ड, ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए पेमेंट करें और BSE/NSE के ब्रोकर्स के जरिए ही निवेश करें।
  • इस ईटीएफ में निवेश के लिए सीपीएसई ईटीएफ एफएफओ के नाम से ही चेक बनाएं।
  • फॉर्म के साथ डीमैट प्रूफ और चेक होना जरूरी है।
  • साथ ही अपडेटेड KYC डिक्लेरेशन होना जरूरी है।

यह भी पढ़ें : कालेधन पर रोक के लिए प्रॉपर्टी रजिस्‍ट्रेशन का डिजिटलीकरण और स्टांप शुल्क में कमी हो: एसोचैम 

(3) ऐसे भी हो सकता है इस MF में निवेश

  • इसके अलावा आप NSE म्युचुअल फंड सर्विस सिस्टम (MFSS) पर और NSE ई-आईपीओ प्लेटफॉर्म पर NSE के किसी ब्रोकर के जरिए भी आवेदन कर सकते है।
  • BSE स्टाल MF- BSE ब्रोकर के जरिए भी आवदेन किया जा सकता है।
  • BSE ई-IPO प्लैटफॉर्म पर-BSE ब्रोकर के जरिए या फिर AMFI के प्लैटफॉर्म पर एमएफ यूटिलिटी के जरिए भी CPSE ETF में ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं।

(4) यहां से डाउनलोड कर सकते है फार्म

  • निवेश के लिए आवेदन फार्म reliancemutual.com से डाउनलोड करें।

(5) कब तक कर सकते हैं निवेश

  • CPSE ईटीएफ में निवेश के लिए आवेदन की तारीख 20 जनवरी शाम 5 बजे तक है। 4 फरवरी को अलॉटमेंट और 10 फरवरी को लिस्टिंग होगी। इश्यू बंद होने के 15 दिनों के अंदर रिफंड होगा।

तस्‍वीरों में देखिए पीएफ एकाउंट में बैलेंस पता करने का तरीका

(6) पहले के CPSE ETF का कैसा रहा प्रदर्शन

  • आपको बता दें कि पहले सरकारी ईटीएफ का प्रदर्शन अच्छा रहा था और पहले सीपीएसई ईटीएफ से 14.5 फीसदी तक सालाना रिटर्न मिला। पहले ईटीएफ में रिटेल निवेशकों को 17.2 फीसदी रिटर्न मिला था।
  • रिटेल के 17.2 फीसदी रिटर्न में लॉयल्टी यूनिट्स शामिल थे।
  • मार्च 2014 में पहला सीपीएसई ईटीएफ आया था और इससे सरकार ने 3,000 करोड़ रुपये जुटाए थे।
  • 1 साल बाद रिटेल निवेशकों को लॉयल्टी यूनिट्स जारी हुए थे।
  • ईटीएफ, स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड फंड होते हैं और ये लिस्टेड पीएसयू में सरकार के हिस्से का विनिवेश करने का एक तरीका है।
  • सीपीएसई ईटीएफ का बेंचमार्क इंडेक्स सीपीएसई इंडेक्स होता है।
Write a comment