1. Home
  2. My Profit
  3. Gadgets
  4. McAfee ला रही है दुनिया का पहला हैक प्रूफ स्‍मार्टफोन, कोई नहीं लगा पाएगा मोबाइल की सुरक्षा सेंध

McAfee ला रही है दुनिया का पहला हैक प्रूफ स्‍मार्टफोन, कोई नहीं लगा पाएगा मोबाइल की सुरक्षा सेंध

McAfee दुनिया का पहला ऐसा स्‍मार्टफोन बनाने जा रही है जो पूरी तरह हैक प्रूफ होगा।

Manish Mishra | May 2, 2017 | 12:29 PM
McAfee ला रही है दुनिया का पहला हैक प्रूफ स्‍मार्टफोन, कोई नहीं लगा पाएगा मोबाइल की सुरक्षा सेंध

नई दिल्‍ली। वैसे तो McAfee एक एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर के रूप में मशहूर है जो हमारे कंप्‍यूटर्स और लैपटॉप्‍स की सुरक्षा करता है। लेकिन, अब यह कंपनी दुनिया का पहला ऐसा स्‍मार्टफोन बनाने जा रही है जो पूरी तरह हैक प्रूफ होगा। इसके निर्माता John McAfee ने घोषणा की है कि ‘John McAfee Privacy Phone’ इसी वर्ष उनके MGT सिक्‍योरिटी फर्म से बाहर लाकर पेश किया जाएगा।

हालांकि, कंपनी ने इस फोन की स्पेसिफिकेशन के बारे में कोई खुलासा नहीं किया गया है। यदि मैक्फी इस फोन को बनाने में सफल होती है तो टेक्नोलॉजी जगत में यह फोन पहले हैक प्रूफ फोन साबित होगा।

यह भी पढ़ें : नई टेक्नोलॉजी के साथ सिर्फ 1500 रुपए में मिलेगा नया 4G मोबाइल, ये कंपनी कर रही है तैयारी

कुछ दिनों पहले ही दिखाया था हैक प्रूफ फोन

कुछ दिनों पहले ही McAfee एंटी-वायरस के सह-संस्‍थापक John McAfee ने ट्विटर पर अपनी कंपनी के ‘Privacy Phone’ का प्रोटोटाइप (मॉडल) शेयर किया था, जिसकी अनुमानित कीमत 1,100 डॉलर (लगभग 70,000 रुपए) होगी। McAfee का दावा है कि यह दुनिया का पहला ‘प्राइवेट’ स्मार्टफोन होगा। कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, McAfee के नेतृत्व वाली साइबर सिक्योरिटी कंपनी MGT इस फोन की डिजाइनिंग, टेस्टिंग और असेंबलिंग कर रही है।ब्‍वउपदह

यह भी पढ़ें : ये हैं 7,000 रुपए से कम कीमत के फीचर पैक्‍ड स्मार्टफोन, 4G VoLTE की सुविधा से हैं लैस

इस तरह सिक्‍योर होगा John McAfee Privacy Phone

John McAfee ने न्‍यूजवीक को दी गई जानकारी में बताया कि ‘John McAfee Privacy Phone’ हार्डवेयर स्विच को बैक पैनल में दिखाएगा जो यूजर्स को बैटरी, वाई-फाई के लिए एंटेना, कैमरा, ब्लूटूथ, जियो-लोकेशन और माइक्रोफोन तक डिस्कनेक्ट करने की अनुमति देगा। यह एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करेगा।

इस साल की शुरुआत में MGT ने इसकी घोषणा ब्लॉग पोस्ट पर की थी। ब्लॉग में MGT ने कहा था कि बेस फोन एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग करके एक OEM मॉडल के रूप में खरीदा जाएगा और फिर MGT की साइबर सुरक्षा टीम के कौशल के जरिए उस फोन को संशोधित किया जाएगा।