1. Home
  2. News And Views
  3. News
  4. ग्लोबल स्टील के पूर्व चेयरमैन मित्तल पर सरकारी कंपनी को नुकसान पहुंचाने का आरोप, दर्ज हुई एफआईआर

ग्लोबल स्टील के पूर्व चेयरमैन मित्तल पर सरकारी कंपनी को नुकसान पहुंचाने का आरोप, दर्ज हुई एफआईआर

सीबीआई ने ग्लोबल स्टील के पूर्व चेयरमैन प्रमोद कुमार मित्तल के खिलाफ बकाया भुगतान में चूक और गड़बड़ी के आरोपों में एफआईआर दर्ज की है।

Dharmender Chaudhary | Mar 20, 2017 | 9:14 PM
ग्लोबल स्टील के पूर्व चेयरमैन मित्तल पर सरकारी कंपनी को नुकसान पहुंचाने का आरोप, दर्ज हुई एफआईआर

नई दिल्ली। सीबीआई ने ग्लोबल स्टील होल्डिंग्स लि. (जीएसएचएल) के पूर्व चेयरमैन प्रमोद कुमार मित्तल के खिलाफ बकाया भुगतान में चूक और गड़बड़ी के आरोपों में एफआईआर दर्ज की है। इससे सार्वजनिक क्षेत्र की स्टेट ट्रेडिंग कॉरपोरेशन (एसटीसी) को कथित 2,112 करोड़ रुपए का अनुमानित नुकसान हुआ।

यह भी पढ़ें: न्यूनतम मजदूरी की मांग पर तेल टैंकर वालों की अनिश्चितकालीन हड़ताल, पेट्रोल-डीजल की हो सकती है किल्लत

  • सीबीआई ने 19 पृष्ठ की एफआईआर में ग्लोबल स्टील फिलिपींस के तत्कालीन मुख्य कार्यकारी अधिकारी ललित सहगल और 18 अन्य को नामजद किया गया है।
  • इनमें एसटीसी के तत्कालीन चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अरविंद पंडालाई और सार्वजनिक उपक्रम के अन्य अधिकारी शामिल हैं।
  • आइले ऑफ मैन कर पनाहगाह में स्थापित ग्लोबल स्टील होल्डिंग्स और ग्लोबल स्टील फिलिपींस का नाम भी आरोपी के रूप में एफआईआर में है।
  • यह एफआईआर आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार के मामले में दायर की गई है।
  • इस बारे में तत्काल मित्तल या अन्य कंपनियों से प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है।

यह भी पढ़ें: सिर्फ 5000 रुपए में बुक कर सकते हैं टाटा की टिगोर, 29 मार्च को होगी लॉन्च

क्या है आरोप

  • आरोप है कि जीएसएचएल ने 2003 में एसटीसी से संपर्क कर फिलिपींस और बोस्निया में नए अधिग्रहीत इस्पात संयंत्रों के लिए कच्चे माल की खरीद को वित्तपोषण हासिल करने के लिए ऋण सुविधा पत्र जारी करने को कहा था।
  • इसके बाद एसटीसी ने फिलिपींस में भारतीय राजदूत को पत्र भेजकर कंपनी के गठन, उसकी संपत्तियों, निवेश के माहौल के बारे में जानकारी मांगी।
  • इस पर दूतावास ने कहा कि वह इस बारे में ब्योरा देने की स्थिति में नहीं है। दूतावास ने कंपनी को अपने हितों की रक्षा के लिए और जांच करने की सलाह भी दी।
  • लेकिन सरकारी कंपनी ने ऐसा कुछ नहीं किया जबकि उसके दिशानिर्देशों में यह लिखा है कि वह उधार की सुविधा देने के लिए वह दूसरे पक्ष की वित्तीय साख का किसी विशेषग्य एजेंसी से आकलन कराएगी।
Write a comment