1. Home
  2. My Profit
  3. Stocks
  4. Right Time: महंगे क्रूड से बढ़ेगा इन कंपनियों का मुनाफा, शॉर्ट टर्म में बड़े रिटर्न की उम्मीद

Right Time: महंगे क्रूड से बढ़ेगा इन कंपनियों का मुनाफा, शॉर्ट टर्म में बड़े रिटर्न की उम्मीद

क्रूड की तेजी से इंजीनियर्स इंडिया, ONGC, ऑयल इंडिया, शिपिंग कॉर्प, अबन ऑफशोर, प्राज इंडस्ट्रीज, पेट्रोनेट एलएनजी, GSPLऔर रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा बढ़ेगा

Ankit Tyagi | May 12, 2017 | 7:09 AM
Right Time: महंगे क्रूड से बढ़ेगा इन कंपनियों का मुनाफा, शॉर्ट टर्म में बड़े रिटर्न की उम्मीद

नई दिल्ली। इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड की कीमतें एक बार फिर से चढ़ने लगी है। माना जा रहा है कि 25 मई को OPEC देशों (क्रूड एक्सपोर्ट करने वाले देशों का संगठन) की बैठक में उत्पादन कटौती पर फैसला हो सकता है। लिहाजा नायमैक्स पर क्रूड के भाव 60 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को छू सकती है। ऐसे में क्रूड की तेजी से इंजीनियर्स इंडिया, ONGC, ऑयल इंडिया, शिपिंग कॉर्प, अबन ऑफशोर, प्राज इंडस्ट्रीज, पेट्रोनेट एलएनजी, GSPLऔर रिलायंस इंडस्ट्रीज को फायदा मिलेगा। लिहाजा निवेशक शॉर्ट टर्म के लिए इन शेयरों पर दांव लगाकर अच्छे रिटर्न हासिल कर सकते है।

क्यों होगा इन कंपनियों पर असर

फिनेथिक वेल्थ सर्विसेज के डायरेक्टर वीके नेगी के अनुसार क्रूड ऑयल में तेजी से कंपनियों की एक्सप्लोरेशन एक्टिविटी तेज हो जाती है। लिहाजा कारोबार से जुड़ी सभी कंपनियों की आय में तेजी आती है। इससे कंपनियों का मुनाफा बढ़ जाता है। इसीलिए इन कंपनियों के शेयरों में तेजी की उम्मीद है।यह भी पढ़े: अगले 6 हफ्ते में ये 9 कंपनियां शेयर बाजार से जुटाएंगी 15 हजार करोड़ रुपए, आप भी उठा सकते हैं फायदा

60 डॉलर तक जा सकते है भाव

केडिया कमोडिटी के अजय केडिया का कहना है कि क्रूड को लेकर फिलहाल ग्लोबल मार्केट में अनिश्चितता बनी हुई है, जिससे आगे क्रूड में तेजी के हालात बनते नजर आ रहे हैं। फिलहाल क्रूड की कीमतें 48.3 डॉलर प्रति बैरल पर है। आगे अगर 56 डॉलर प्रति बैरल के पार निकलती है तो क्रूड इस फाइनेंशियल ईयर के तीसरे क्वार्टर तक 60 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकता है।यह भी पढ़े: #Bahubali2: इन छोटे शेयरों में हैं बाहुबली बनने का दम, सालभर में दे सकते हैं 100 फीसदी तक का रिटर्न

गोल्डमैन सैक्स की रिपोर्ट के अनुसार आने वाले दिनों में ग्लोबल डिमांड बढ़ेगी। लेकिन ओपेक देशों द्वारा प्रोडक्शन एक तय लिमिट में ही होगा, जिससे डिमांड यूएस की ओर शिफ्ट होगी। ऐसे में क्रूड ऑयल की कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। रिपोर्ट के अनुसार ग्लोबल मार्केट में अगले 2 महीनों में क्रूड की कीमतें 57 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकती हैं। इस साल के सेकंड हॉफ में भी क्रूड की कीमतें 55 डॉलर प्रति बैरल से नीचे नहीं आएंगी। यह भी पढ़े: अप्रैल में निवेशकों ने गोल्ड ईटीएफ से निकाले 66 करोड़ रुपए, शेयर बाजार में आई तेजी से घटा रुझान

इन शेयरों में तेजी की उम्मीद

EIL

प्रकाश दीवान डॉट इन के हेड प्रकाश दीवान के मुताबिक क्रूड की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते इंजीनियर्स इंडिया पर भी दांव लगाने की सलाह दी है। प्रकाश दीवान के मुताबिक इंजीनियर्स इंडिया ईपीसी सॉल्यूशन सप्लाई करने वाली सबसे बड़ी कंपनी है। साथ ही इंजीनियर्स इंडिया को रिफाइनिंग की अतिरिक्त क्षमता बढ़ने से बेहतर रियलाइजेशन और मजबूत ऑर्डर बुक की उम्मीद है। प्रकाश दीवान का मानना है कि 1 साल की अवधि में इंजीनियर्स इंडिया का शेयर 300 रुपए के स्तर तक जा सकता है।

शिपिंग कॉर्प

प्रकाश दीवान ने कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते शिपिंग कॉर्प को पोर्टफोलियो में शामिल किया जा सकता है। प्रकाश दीवान के मुताबिक चढ़ते क्रूड से शिपिंग कॉर्प की आय और मार्जिन में अच्छी बढ़त की उम्मीद है। प्रकाश दीवान का मानना है कि 1 साल की अवधि में शिपिंग कॉर्प का शेयर 99 रुपए के स्तर तक जा सकता है।

ऑयल इंडिया

ऑयल इंडिया नवरत्न कंपनियों में शामिल है जो 1959 में बनी थी। कंपनी क्रूड ऑयल व नेचुरल गैस के एक्सप्लोरेशन, डेवलपमेंट, प्रोडक्शन और ट्रांसपोर्टेशन के काम में लगी है। कंपनी पर फाइनेंशियल ईयर 2017 के लिए कर्ज का बोझ नहीं है। कंपनी का डिविडेंट भी अट्रैक्टिव है। आने वाले दिनों में कंपनी के पाइपलाइन नेटवर्क की लंबाई बढ़कर 27550 किलोमीटर हो जाएगी। ऑयल इंडिया को क्रूड में तेजी का फायदा मिलेगा और इसके वैल्युएशंस अबभी सस्ते हैं। ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने स्टॉक का टारगेट 382 रखा है।

ONGC 

ब्रोकरेज हाउस इडेलविस ने स्टॉक में 236 के टारगेट के साथ निवेश की सलाह दी है। कंपनी का टारगेट 2022 तक क्रूड ऑयल प्रोडक्शन 17 फीसदी और नेचुरल गैस का प्रोडक्शन 66 फीसदी बढ़ाने का है। ओएनजीसी देश के अलावा विदेशों में भी तेल खोज में लगी है। जनवरी से मार्च तिमाही में ईधन की खपत घटने का कंपनी के नतीजों पर असर दिखेगा। ओएनजीसी के नतीजे बेहतर रहने का अनुमान है। सरकार ने भी पिछले दिनों कंपनी के पुराने तेल और गैस ब्लॉक से अतिरिक्त समय देने का फैसला किया है। जिसका फायदा कंपनी को होगा। वहीं डोमेस्टिक इकोनॉमी बेहतर रहने से भी स्टॉक में ग्रोथ दिखेगी।

अबन ऑफशोर

क्रूड की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते अबन ऑफशोर के शेयर में भी तेजी देखने को मिल सकती है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि चढ़ते क्रूड से क्षमता और भाड़े में बढ़त होगी, ऐसे में अबन ऑफशोर को इसका जरूर फायदा मिलेगा। विकास सेठी का मानना है कि 1 साल की अवधि में अबन ऑफशोर का शेयर 285 रुपए के स्तर तक जा सकता है।

Write a comment